Jaipurभौगोलिक वर्गीकरण के आधार पर राजस्थान के वनों के प्रकार Types of...

भौगोलिक वर्गीकरण के आधार पर राजस्थान के वनों के प्रकार Types of Forests of Rajasthan on the basis of Geographical Classification

Join Telegram

भौगोलिक वर्गीकरण के आधार पर वनों को पाँच भागों में बाँटा गया है

  • उष्णकटिबंधीय कंटीले वन
  • उष्णकटिबंधीय धोंक वन
  • उष्णकटिबंधीय शुष्क मानसूनी वन
  • उष्णकटिबंधीय सागवान वन
  • उष्णकटिबंधीय सदाबहार वन

(1) उष्णकटिबंधीय कंटीले वन Tropical thorn forest

  • वर्षा – 0 – 30 सेमी.
  • वन क्षेत्र – 6 प्रतिशत
  • विस्तार – शुष्क मरुस्थली क्षेत्र (जैसलमेर, बीकानेर बाडमेर एवं जोधपुर),
  • प्रमुख वन- नागफनी, एलोवेरा, कंटीली झाड़ियाँ
  • महत्व – मरुस्थलीकरण को रोकने में।

(2) उष्णकटिबंधीय धोंक वन tropical dunk forest

  • वर्षा – 30-60 सेमी.
  • वन क्षेत्र – 58 प्रतिशत
  • विस्तार- अर्द्धशुष्क मरूस्थली क्षेत्र (लून-बेसिन, नागौर, शेखावाटी, करौली एवं सवाईमाधोपुर)
  • प्रमुख वन खेजडी, रोहिड़ा, बबूल, बैर एवं कैर
  • महत्व ईंधन की लकड़ी प्राप्त की जाती है।

(3) उष्णकटिबंधीय शुष्क मानसून वन Tropical Dry Monsoon Forest

  • वर्षा- 50
  • वर्षा 80 सेमी.
  • वन क्षेत्र- 28 प्रतिशत
  • विस्तार- अलवर, भरतपुर, करौली, धौलपुर, उदयपुर, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा एवं राजसमंद
  • प्रमुख वन साल, सागवान, शीशम, आम एवं चन्दन।
  • महत्व – इन वनों का आर्थिक महत्व सर्वाधिक होता है। उदाहरण- ईमारती लकड़ी के रूप में।

(4) उष्णकटिबंधीय सागवान वन tropical teak forest

  • वर्षा – 75-110 सेमी.
  • वन क्षेत्र – 7 प्रतिशत
  • विस्तार – बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, कोटा एवं झालावाड़
  • प्रमुख वन गुलर, महुआ एवं तेन्दु ।
  • महत्व – औद्योगिक क्षेत्र में उपयोगी।

(5) उष्णकटिबंधीय सदाबहान वन tropical evergreen forest

  • वर्षा – 150 सेमी.
  • वन क्षेत्र – 1 प्रतिशत
  • विस्तार- माउंट आबू
  • प्रमुख वन – डिकल्पटेरा आबू ऐंसिस (अम्बरतरी), जामुन एवं बांस।
  • महत्व – इन वनों में अधिक जैव विविधता पाई जाती है।

OTHER

Join Telegram

Latest article

spot_img

More article