Tech And Computerथ्रेट मानिटरिंग क्या है विशेषता और लाभ | Threat Monitoring in hindi

थ्रेट मानिटरिंग क्या है विशेषता और लाभ | Threat Monitoring in hindi

थ्रेट मानिटरिंग, थ्रेट मानिटरिंग क्या है, थ्रेट मानिटरिंग के लाभ, कार्य,  Threat Monitoring in hindi

थ्रेट मानिटरिंग threat monitoring- एक प्रबंधन तकनीक है जो एक सुरक्षा तंत्र में सुधार कर सकती है । यह प्रणाली सरलतापूर्वक असुरक्षा उत्पन्न करने वाली संदेहास्पद प्रक्रियाओं की खोज – खबर कर सकती है । थ्रेट मानिटरिंग तकनीकी पेशेवरों को नेटवर्क की देखभाल करने का अवसर प्रदान करता है । यह लोगों को भी अवसर देता है जो इसका अवलोकन करते हैं , सशक्त डाटा संरक्षण करते हैं और उस क्षतियों में कमी करते हैं जो समझौते का उल्लंघन करने से उत्पन्न होती है ।

आजकल कम्पनियाँ स्वतंत्र कान्ट्रेक्टर , स्वच्छंद कार्यकर्ता एवं स्टॉफ नियुक्त करती है , जो कार्य के लिए अपने स्वयं के उपकरणों का उपयोग करते हैं ; और इस भांति कम्पनी के डाटा एवं संवेदनशील सूचनाओं के लिए अतिरिक्त जोखिम उत्पन्न करते हैं । इस प्रकार उद्योगों के कुशल संचालन हेतु थ्रेट मॉनिटरिंग की आवश्यकता प्रदर्शित करते हैं ।

थ्रेट मॉनिटरिंग कैसे कार्य करता है

साइबर अटैक व डाटा संबंधी बाधाओं की पहचान के लिए थ्रेट मॉनिटरिंग लगातार सुरक्षा डाटा का विश्लेषण व मूल्यांकन करता है ।

थ्रेट मॉनिटरिंग निष्पादन सूचनाओं का संग्रहण व उसकी नेटवर्क सेंसर्स व अन्य उपकरणों से संबद्धता करता है तथा अन्य सुरक्षा तकनीकों का उपयोग कर घटनाओं के प्रारूपों की पहचान करता है । एक बार थ्रेट की पहचान हो जाने पर सुरक्षा टीम को निस्तारण या प्रारंभिक प्रतिक्रिया हेतु एक खतरे की चेतावनी जारी की जाती है ।

थ्रेट मॉनिटरिंग के लाभ

थ्रेट मॉनिटरिंग के उपयोग द्वारा संगठन को यह पहचान करने में सुविधा होती है कि पूर्ववर्ती अज्ञात रहे थ्रेट बाहर से सम्पर्कित है या अनधिकृत रूप से खातों की पड़ताल कर रहे हैं ।
थेट मॉनिटरिंग सोल्युशन नेटवर्क तथा एंड – पाइंट एक्टिविटी के बारे में सूचना संचय करता है तथा IP Address , URL और File तथा Application की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराता है जो थ्रेट एक्टिविटी की अधिक सही पहचान कराता है ।
थ्रेट मॉनिटरिंग आंतरिक थ्रेट के खतरों को कम करता है तथा डाटा बचाव की सक्षमता में अभिवृद्धि करता है । इस प्रकार संगठन आंतरिक व बाह्य थ्रेट से सुरक्षित रहने में अपने आपको बेहतर स्थिति में पाते हैं । यह ध्यान रखें कि नेटवर्क पर क्या हो रहा है , कौन उसका उपयोग कर रहा है , और क्या उपयोगकर्ता जोखिम में है अथवा नहीं । पॉलिसी की आवश्यकतानुसार नेटवर्क कैसे सम्बद्ध है , यह समझना ।

नियम अनुपालन के मानक या व्यापारिक भागीदार के एग्रीमेंट जिनके लिए संवेदनशील डाटा प्रकार मॉनिटरिंग की आवश्यकता है , उसे प्राप्त करना ।

नेटवर्क अनुप्रयोगों में जहाँ कमी हो उसे ढूंढना तथा सुरक्षा कैसे लागू की जाय , यह पता लगाना ।

Latest article

More article