Make moneyमोती की खेती का व्यवसाय कैसे शुरू करें | मोती की खेती...

मोती की खेती का व्यवसाय कैसे शुरू करें | मोती की खेती से पैसे कैसे कमाए – pearl business in Hindi 2021

मोती की खेती कैसे शुरू करें, निवेश, भारी मुनाफा और कहां बेचें, मोतियों का बिजनेस कैसे करें [business idea, pearl business in india]

pearl business in Hindi- मोती की खेती भारत में सबसे अच्छे जलीय कृषि व्यवसायों में से एक है, क्योंकि मोती की बाजार में उत्कृष्ट मांग है। मोती की खेती का व्यवसाय कौन कर सकता है ? अच्छी तरह से कोई भी जो सीपों की संस्कृति के लिए अपना समय समर्पित करके मुनाफा कमाने में रुचि रखता है। स्थानीय और निर्यात बाजारों में मोती की बहुत मांग है । आप अन्य मछली पालन या किसी एक्वाकल्चर व्यवसाय के साथ-साथ मोती पालन की खेती कर सकते हैं। मसल्स की आदर्श एक्वाकल्चर प्रथाओं के तहत, व्यावसायिक मोती की खेती के साथ अच्छा लाभ प्राप्त किया जा सकता

मोती की खेती के लाभ benefits of pearl farming

मोती की खेती के कई फायदे हैं जैसे युवाओं को रोजगार मिलेगा और इसमें मुनाफा बहुत अधिक है। यही कारण है कि यह इन दिनों अधिक से अधिक प्रसिद्ध हो रहा है।

मोती की खेती कैसे करें how to cultivate pearls

मोती की खेती के लिए सबसे अनुकूल मौसम शरद ऋतु यानि अक्टूबर से दिसंबर का समय होता है। मोतियों की खेती कम से कम 10 x 10 फीट या उससे बड़े तालाब में की जा सकती है। मोती की खेती के लिए 0.4 हेक्टेयर जैसे छोटे तालाब में अधिकतम 25000 सीपों से मोती का उत्पादन किया जा सकता है। मोती की खेती शुरू करने के लिए तालाब, नदी आदि से सीप इकट्ठा करने पड़ते हैं या फिर इन्हें बाजार से भी खरीदा जा सकता है।

इसके बाद प्रत्येक सीप में हर छोटे-छोटे ऑपरेशन के बाद चार से छह मिमी व्यास वाले साधारण या डिजाइन किए हुए मनके जैसे गणेश, बुद्ध, फूलों की आकृति आदि डाल दिए जाते हैं। फिर सीप को बंद कर दिया जाता है। इन सीपों को नाइलोन की थैलियों में 10 दिनों तक एंटीबायोटिक और प्राकृतिक आहार पर रखा जाता है। इनका प्रतिदिन निरीक्षण किया जाता है और मृत सीपों को हटा दिया जाता है।

अब इन सीपों को तालाबों में डाल दिया जाता है। इसके लिए उन्हें बांस या बोतल का उपयोग करके नायलॉन बैग (प्रति बैग दो सीप) में लटका दिया जाता है और तालाब में एक मीटर की गहराई पर छोड़ दिया जाता है।

इनका पालन 20 हजार से 30 हजार सीप प्रति हेक्टेयर की दर से किया जा सकता है। अंदर से आने वाली सामग्री मनके के चारों ओर जमने लगती है जो अंत में मोती का रूप धारण कर लेती है। लगभग 8-10 महीनों के बाद, सीप को चीर कर मोती निकाल दिया जाता है।

मोती की खेती में लागत cost of pearl farming

एक सीप की कीमत लगभग 20 से 30 रुपये कम होती है। बाजार में एक एमएम से 20 एमएम के सीप मोती की कीमत करीब 300 रुपये से 1500 रुपये है। आजकल डिजाइनर मोतियों को खूब पसंद किया जा रहा है, जिनकी बाजार में अच्छी कीमत मिल जाती है।

भारतीय बाजार की तुलना में विदेशी बाजार में मोतियों का निर्यात करके काफी बेहतर पैसा कमाया जा सकता है। सीप से मोती निकालने के बाद सीप को बाजार में बेचा भी जा सकता है। सीप से कई सजावटी सामान बनाए जाते हैं। कन्नौज में सीपों से इत्र का तेल निकालने का कार्य भी बड़े पैमाने पर किया जाता है।

जिससे सीप को स्थानीय बाजार में भी तुरंत बेचा जा सकता है। नदियों और तालाबों के पानी को भी सीप से शुद्ध किया जाता है, जिससे जल प्रदूषण की समस्या से काफी हद तक निपटा जा सकता है।

मोतियो का उपयोग use of pearls

· इसका उपयोग आभूषण बनाने के लिए किया जाता है: झुमके, हार, अंगूठियां, कंगन, पायल आदि

· इसका उपयोग चटाई, मेज़पोश, कालीन आदि बनाने के लिए किया जाता है

· इसका उपयोग सजावटी वस्तु के रूप में किया जाता है

· यह कपड़े में भी एम्बेडेड और कढ़ाई की जाती है

मोती की खेती के लिए ट्रेनिंग कहां से लें

दक्षिण भारत और बिहार के दरभंगा क्षेत्र के सीप की क्वालिटी सबसे अच्छी होती है। मोती की खेती की ट्रेनिंग मध्य प्रदेश के होशंगाबाद या फिर मुंबई से ली जा सकती है।

Latest article

More article