Home Blog

Salim Anarkali story

0

Salim Anarkali story

The narrative of Salim and Anarkali is a well known romantic tale from the Mughal period in India. Salim was the child of Ruler Akbar, and Anarkali was a lovely concubine in his court.

Salim experienced passionate feelings for Anarkali, yet their affection was not acknowledged by the ruler, who considered it unseemly for his child to cherish an ordinary person. At the point when Akbar learned of their relationship, he requested Anarkali to be detained and condemned to death.

Salim attempted to save Anarkali and begged his dad to save her life, yet Akbar was firm in his choice. Eventually, Anarkali was covered alive in a block facade, and Salim was devastated.

The tale of Salim and Anarkali has been deified in writing, music, and film. A heartbreaking romantic tale keeps on dazzling crowds even today.

Burial chamber of Anarkali

The presence of a burial chamber of Anarkali involves discussion and debate among students of history and archeologists. As per a few records, Anarkali was covered alive in a block facade, and consequently, there is no burial place or grave for her.

In any case, certain individuals accept that Anarkali’s burial place exists in Lahore, Pakistan, where she is said to have been covered. The burial place is situated inside the premises of the Punjab Common Secretariat, and it is a famous vacation spot. The design of the burial chamber is normal of Mughal-period structures, with complicated carvings and embellishments.

In spite of the presence of the burial chamber, numerous students of history have one or two serious misgivings about its legitimacy, as there is no substantial proof to recommend that Anarkali was really covered there. Some contend that the burial chamber might have been fabricated a lot later, and it very well may be an emblematic landmark committed to the memory of Anarkali and her terrible story.

Salim Anarkali Film

There have been a few films made on the narrative of Salim and Anarkali throughout the long term, both in India and Pakistan. Probably the most popular ones are:

Mughal-e-Azam (1960) – This incredible verifiable show movie coordinated by K. Asif is viewed as an exemplary of Indian film. It stars Dilip Kumar as Salim and Madhubala as Anarkali.

Anarkali (1953) – This Pakistani movie coordinated by Anwar Kamal Pasha was perhaps of the earliest film made on the narrative of Salim and Anarkali. It featured Noor Jehan as Anarkali and Ahmad Rushdi as Salim.

Anarkali (1978) – This Indian movie coordinated by Nandlal Jaswantlal featured Bina Rai as Anarkali and Pradeep Kumar as Salim.

Anarkali of Aarah (2017) – This advanced variation of the tale of Anarkali was coordinated by Avinash Das and featured Swara Bhaskar in the number one spot job.

These films portray the appalling romantic tale of Salim and Anarkali in their own special manner and have added to the getting through prominence of this immortal story.

Salim Anarkali television Sequential, Cast Name

There have been a few television serials made on the narrative of Salim and Anarkali throughout the long term. The absolute most popular ones are:

Akbar the Incomparable (1992-93) – This authentic television show was delivered by Doordarshan and coordinated by Akbar Khan. It featured Rajat Kapoor as Akbar, Vivek Mushran as Salim, and Sonu Walia as Anarkali.

Jodha Akbar (2013-15) – This well known television series was delivered by Balaji Telefilms and circulated on Zee television. It featured Rajat Tokas as Akbar and Paridhi Sharma as Jodha, yet the story additionally incorporated the romantic tale of Salim and Anarkali, with entertainers Shakti Anand and Smilie Suri depicting their jobs.

Dastaan-E-Mohabbat: Salim Anarkali (2018) – This television series was created by Tones television and featured Shaheer Sheik as Salim and Sonarika Bhadoria as Anarkali.

These television serials portrayed the appalling romantic tale of Salim and Anarkali in their own one of a kind way, with a few zeroing in erring on the verifiable viewpoint and others on the heartfelt point. Regardless, every one of them caught the substance of the ageless story and were generally welcomed by crowds.

Books On Salim Anarkali

There have been a few books composed on the narrative of Salim and Anarkali throughout the long term. The absolute most popular ones are:

“Anarkali” by Syed Imtiaz Ali Taj – This is a well known Urdu novel that recounts the narrative of Anarkali and her terrible relationship with Salim. It has been adjusted into a few plays, movies, and television series.

“The Taj Set of three” by Indu Sundaresan – This is a progression of verifiable books that incorporates “The 20th Spouse,” “The Gala of Roses,” and “Shadow Princess,” which by and large recount the tale of the Mughal realm, including the narrative of Salim and Anarkali.

“Domain of the Moghul: Thieves From the North” by Alex Rutherford – This is a verifiable fiction novel that spotlights on the early existence of Ruler Akbar, incorporating his relationship with Salim and Anarkali.

“Anarkali: The Court Artist” by Dr. Abu’l-Fazl – This is a verifiable play in Persian that recounts the tale of Anarkali and her heartbreaking end because of Sovereign Akbar.

These books offer alternate points of view on the tale of Salim and Anarkali, and give perusers a more profound understanding into the verifiable and social setting of their relationship.

What is MSc Software Engineering?

0

What is MSc Software Engineering?

MSc Software Engineering is a graduate-level degree program that focuses on teaching students the principles and practices of designing, developing, and maintaining software systems. It typically provides students with a broad understanding of software engineering, including the processes, methods, tools, and techniques used in the field. The program also usually emphasizes the development of practical skills, such as programming, testing, and project management.

The curriculum of an MSc Software Engineering program often covers topics such as software development life cycle models, requirements engineering, software design and architecture, software testing and quality assurance, project management, and software maintenance and evolution. The program may also include courses on specific programming languages, software development tools, and emerging technologies.

Graduates of an MSc Software Engineering program can pursue careers in a variety of areas, including software development, software testing and quality assurance, project management, and software consulting. They may work in a range of industries, such as information technology, finance, healthcare, and e-commerce. They may also choose to pursue further education, such as a Ph.D. in Software Engineering or a related field.

What is a software engineer?

A software engineer is a professional who designs, develops, tests, and maintains software applications or systems. Software engineers typically work with a team of other software professionals and may collaborate with individuals from other disciplines, such as project managers, product owners, and designers.

The work of a software engineer may involve various tasks, such as writing code, debugging software, designing software architecture, creating software specifications, testing software, and documenting software processes. They may use programming languages, frameworks, and tools to build software applications or systems, and they may work on different types of software, such as desktop applications, web applications, mobile applications, and embedded systems.

In addition to technical skills, software engineers may need to have good communication and collaboration skills, as they often work in teams and interact with stakeholders from other departments. They may also need to stay up-to-date with the latest trends and developments in the field to remain competitive and create software that meets the needs of users and businesses.

What is the eligibility for MSc Software engineering?

The eligibility criteria for MSc Software Engineering may vary depending on the university or institution offering the program, but generally, the following requirements may apply:

  1. A bachelor’s degree: Applicants should have a bachelor’s degree in a related field such as computer science, software engineering, or information technology. Some universities may accept candidates from other fields as well, but they may be required to take additional courses to catch up with the core requirements.
  2. Academic record: Candidates should have a strong academic record, with a minimum GPA of 3.0 on a 4.0 scale or equivalent.
  3. English language proficiency: Non-native English speakers may be required to provide proof of English language proficiency by taking standardized tests such as TOEFL, IELTS, or PTE.
  4. Work experience: Some universities may require applicants to have relevant work experience in the field of software engineering, although this is not always a mandatory requirement.
  5. Letters of recommendation: Most universities require applicants to provide letters of recommendation from professors or professionals who can vouch for their academic and/or professional abilities.
  6. Entrance exam: Some universities may require applicants to take an entrance exam, such as the GRE (Graduate Record Examination) or GMAT (Graduate Management Admission Test).

Prospective applicants should check with the specific university or institution for their MSc Software Engineering program to determine the exact eligibility requirements.

What are the skills required to become a software engineer?

To become a software engineer, you typically need to have a combination of technical and non-technical skills. Here are some of the key skills that are essential for success in this field:

  1. Programming skills: Strong programming skills are essential for a software engineer. You should be proficient in at least one programming language, such as Java, Python, C++, or JavaScript.
  2. Problem-solving skills: Software engineers must be able to identify and solve complex problems in a logical and systematic manner.
  3. Analytical skills: Software engineers should be able to analyze large amounts of data and information to make informed decisions and solve problems.
  4. Attention to detail: Software engineers should be detail-oriented and be able to spot errors and bugs in code.
  5. Communication skills: Software engineers need to be able to communicate effectively with team members and stakeholders, both verbally and in writing.
  6. Teamwork and collaboration: Software engineers usually work in teams, so the ability to work collaboratively and effectively with others is critical.
  7. Adaptability: Software engineering is a constantly evolving field, so the ability to adapt to new technologies and methods is essential.
  8. Time management: Software engineers must be able to manage their time effectively to meet deadlines and complete projects on schedule.
  9. Continuous learning: Software engineers need to keep up-to-date with the latest trends and developments in the field and be willing to continuously learn and improve their skills.

Overall, a successful software engineer needs a combination of technical expertise, problem-solving skills, communication skills, and a willingness to learn and adapt to new challenges.

MSc Software engineering Universities in the USA

There are many universities in the USA that offer MSc Software Engineering programs. Here are some of the top universities to consider:

  1. Carnegie Mellon University – School of Computer Science
  2. Massachusetts Institute of Technology – School of Engineering
  3. Stanford University – School of Engineering
  4. University of California, Berkeley – College of Engineering
  5. Georgia Institute of Technology – College of Computing
  6. University of Illinois at Urbana-Champaign – College of Engineering
  7. California Institute of Technology – Division of Engineering and Applied Science
  8. University of Texas at Austin – Cockrell School of Engineering
  9. University of California, San Diego – Jacobs School of Engineering
  10. University of Southern California – Viterbi School of Engineering

These universities offer a range of courses and specializations within the field of software engineering, including software architecture, software development, software testing, and software project management. Each university has its own set of admission requirements, so it is important to review their websites for more information on application deadlines, eligibility criteria, and program specifics.

Software engineering Colleges in India

There are many colleges and universities in India that offer software engineering programs. Here are some of the top software engineering colleges in India:

  1. Indian Institute of Technology (IIT) – Bombay, Delhi, Kharagpur, Madras, and others
  2. Birla Institute of Technology and Science (BITS) – Pilani
  3. National Institute of Technology (NIT) – Tiruchirappalli, Warangal, Calicut, and others
  4. International Institute of Information Technology (IIIT) – Hyderabad, Bangalore, and others
  5. Delhi Technological University (DTU) – Delhi
  6. Vellore Institute of Technology (VIT) – Vellore, Chennai
  7. College of Engineering, Pune (COEP) – Pune
  8. PSG College of Technology – Coimbatore
  9. Manipal Institute of Technology – Manipal
  10. RV College of Engineering – Bangalore

These colleges offer undergraduate as well as postgraduate programs in software engineering, computer science, and information technology. The curriculum covers a range of topics, including programming languages, software development, algorithms, data structures, and software project management. Each college has its own admission process, eligibility criteria, and program specifics, so it is important to review their websites for more information.

MSc Software engineering syllabus

The syllabus for an MSc Software Engineering program may vary depending on the specific university or institution offering the program, but here are some of the typical courses that may be included:

  1. Software engineering principles and practices
  2. Requirements engineering
  3. Software design and architecture
  4. Object-oriented programming
  5. Software testing and quality assurance
  6. Software project management
  7. Human-computer interaction
  8. Web development and programming
  9. Cloud computing and virtualization
  10. Mobile application development
  11. Big data analytics and processing
  12. Artificial intelligence and machine learning
  13. Distributed systems and parallel computing
  14. Cybersecurity and data protection
  15. Ethics and social implications of software engineering

In addition to the core courses, some MSc Software Engineering programs may offer elective courses or specializations in specific areas of software engineering, such as software development, software testing, software project management, and software architecture. The program may also require a capstone project, where students apply their skills to a real-world software engineering problem, and submit a dissertation or thesis based on their project work.

MSc Software engineering Salary

The salary for someone with an MSc in Software Engineering can vary depending on various factors such as industry, location, years of experience, and job title. Here are some approximate salary ranges for software engineering jobs in the USA and India:

In the USA:

  1. Software Engineer: $73,000 – $151,000
  2. Senior Software Engineer: $96,000 – $184,000
  3. Software Development Manager: $110,000 – $195,000
  4. Software Architect: $118,000 – $193,000
  5. Solutions Architect: $127,000 – $201,000

In India:

  1. Software Engineer: INR 4,00,000 – INR 15,00,000
  2. Senior Software Engineer: INR 6,00,000 – INR 20,00,000
  3. Software Development Manager: INR 12,00,000 – INR 25,00,000
  4. Software Architect: INR 10,00,000 – INR 30,00,000
  5. Solutions Architect: INR 14,00,000 – INR 35,00,000

Note that these figures are approximate and can vary depending on the company, industry, and individual circumstances. It’s also worth noting that software engineering is a field that offers many opportunities for career growth and advancement, which can lead to higher salaries over time.

What after MSc Software engineering?

After completing an MSc in Software Engineering, there are several career paths and opportunities that graduates can consider, depending on their interests and goals. Here are some options:

  1. Software engineer or developer: Graduates can work as software engineers or developers, designing and developing software applications, systems, and solutions for a range of industries and sectors.
  2. Software architect: Graduates with an MSc in Software Engineering can work as software architects, responsible for designing and planning the architecture and infrastructure of software systems and applications.
  3. Software project manager: Graduates can work as software project managers, overseeing and managing the development and delivery of software projects, ensuring that they are completed on time, within budget, and meet the required quality standards.
  4. Software quality assurance engineer: Graduates can work as software quality assurance engineers, responsible for testing software applications and systems to ensure that they meet the required quality and functionality standards.
  5. Software consultant: Graduates can work as software consultants, providing expert advice and guidance to clients on software development, architecture, project management, and related topics.
  6. Research and development: Graduates can pursue a career in research and development, working in academic or industrial research institutions, or pursuing a PhD in software engineering to advance the field through research.

Overall, an MSc in Software Engineering opens up many opportunities in the dynamic and rapidly evolving field of software development and engineering.

How To Get Duplicate Pan Card? |डुप्लीकेट पैन कार्ड कैसे मिलेगा?

0

How To Get Duplicate Pan Card? |डुप्लीकेट पैन कार्ड कैसे मिलेगा?

यदि आपने अपना पैन कार्ड खो दिया है या यह क्षतिग्रस्त हो गया है, तो आप डुप्लीकेट पैन कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह कैसे करना है:

  1. भारत के आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट ( www.incometaxindiaefiling.gov.in ) पर जाएं।
  2. “सेवाएं” टैब पर क्लिक करें और “पैन के लिए आवेदन करें” चुनें
  3. “डुप्लिकेट पैन” श्रेणी चुनें
  4. सभी आवश्यक विवरणों के साथ ऑनलाइन आवेदन फॉर्म (फॉर्म 49ए) भरें।
  5. सहायक दस्तावेजों (जैसे पहचान प्रमाण और पता प्रमाण) की स्कैन की हुई प्रति अपलोड करें
  6. क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग का उपयोग करके आवेदन शुल्क का भुगतान करें
  7. भुगतान की पुष्टि होने के बाद, आपको एक पावती संख्या प्राप्त होगी। इस नंबर को भविष्य के संदर्भ के लिए सुरक्षित रखें।
  8. डुप्लीकेट पैन कार्ड डाक के माध्यम से आपके पंजीकृत पते पर भेजा जाएगा।

डुप्लीकेट पैन कार्ड प्राप्त करने में आमतौर पर लगभग 15 दिन लगते हैं। यदि आप इसे उस समय के भीतर प्राप्त नहीं करते हैं, तो आप पावती संख्या का उपयोग करके आयकर विभाग की वेबसाइट पर अपने आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं।

Duplicate PAN Card क्या होता है?

डुप्लिकेट पैन कार्ड भारत के आयकर विभाग द्वारा जारी मूल पैन (स्थायी खाता संख्या) कार्ड की एक डुप्लिकेट या दूसरी प्रति है। पैन एक अद्वितीय 10-अंकीय अल्फ़ान्यूमेरिक पहचानकर्ता है जो कर उद्देश्यों के लिए व्यक्तियों और संस्थाओं को सौंपा गया है।

डुप्लीकेट पैन कार्ड उन मामलों में जारी किया जाता है जहां मूल पैन कार्ड खो गया है, क्षतिग्रस्त हो गया है या पढ़ने योग्य नहीं है। एक डुप्लीकेट पैन कार्ड में वही जानकारी होती है जो मूल कार्ड में होती है, जिसमें पैन नंबर, नाम और जन्म तिथि या निगमन शामिल है, और इसे कर उद्देश्यों के लिए पहचान और पते के वैध प्रमाण के रूप में माना जाता है।

यदि आपको डुप्लीकेट पैन कार्ड की आवश्यकता है, तो आप आयकर विभाग द्वारा निर्दिष्ट प्रक्रिया का पालन करके इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

How To Get Duplicate PAN Card – Reprint PAN Card

आप इन चरणों का पालन करके डुप्लीकेट पैन कार्ड (पैन कार्ड के पुनर्मुद्रण के रूप में भी जाना जाता है) प्राप्त कर सकते हैं:

  1. भारत के आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट ( www.incometaxindiaefiling.gov.in ) पर जाएं।
  2. “सेवाएं” टैब पर क्लिक करें और “पैन के लिए आवेदन करें” चुनें
  3. “डुप्लिकेट पैन” श्रेणी चुनें
  4. सभी आवश्यक विवरणों के साथ ऑनलाइन आवेदन फॉर्म (फॉर्म 49ए) भरें।
  5. सहायक दस्तावेजों (जैसे पहचान प्रमाण और पता प्रमाण) की स्कैन की हुई प्रति अपलोड करें
  6. क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग का उपयोग करके आवेदन शुल्क का भुगतान करें
  7. भुगतान की पुष्टि होने के बाद, आपको एक पावती संख्या प्राप्त होगी। इस नंबर को भविष्य के संदर्भ के लिए सुरक्षित रखें।
  8. डुप्लीकेट पैन कार्ड डाक के माध्यम से आपके पंजीकृत पते पर भेजा जाएगा।

डुप्लीकेट पैन कार्ड प्राप्त करने में आमतौर पर लगभग 15 दिन लगते हैं। यदि आप इसे उस समय के भीतर प्राप्त नहीं करते हैं, तो आप पावती संख्या का उपयोग करके आयकर विभाग की वेबसाइट पर अपने आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं।

ध्यान दें: यदि आपके व्यक्तिगत विवरण, जैसे आपका नाम, पता, या जन्म तिथि में कोई परिवर्तन हुआ है, तो आपको डुप्लीकेट कार्ड के लिए आवेदन करने से पहले मूल पैन कार्ड में सुधार करना होगा।

PAN Card Number कैसे प्राप्त करें? – Know Your PAN Number

अपना पैन (स्थायी खाता संख्या) कार्ड नंबर पता करने के कई तरीके हैं:

  1. पैन कार्ड: अगर आपके पास पैन कार्ड है, तो नंबर कार्ड के सामने की तरफ छपा होता है।
  2. टैक्स रिटर्न: आपके पैन नंबर का उल्लेख आपके द्वारा पूर्व में दाखिल किए गए आयकर रिटर्न पर किया जाता है।
  3. बैंक खाता विवरण: आपका पैन नंबर आपके बैंक खाते से जुड़ा हुआ है और आपके बैंक स्टेटमेंट पर उपलब्ध है।
  4. ऑनलाइन पैन सत्यापन: आप भारत के आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट ( www.incometaxindiaefiling.gov.in ) पर जा सकते हैं और अपना पैन नंबर सत्यापित करने के लिए “अपना पैन जानें” विकल्प पर क्लिक करें। आपको अपना पैन नंबर सत्यापित करने के लिए बुनियादी व्यक्तिगत विवरण जैसे कि आपका नाम, जन्म तिथि और मोबाइल नंबर प्रदान करने की आवश्यकता होगी।
  5. एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड: आप एनएसडीएल की आधिकारिक वेबसाइट ( www.nsdl.co.in ) पर जा सकते हैं और अपने पैन नंबर को सत्यापित करने के लिए “अपना पैन जानें” विकल्प पर क्लिक कर सकते हैं। आपको अपना पैन नंबर सत्यापित करने के लिए बुनियादी व्यक्तिगत विवरण जैसे कि आपका नाम, जन्म तिथि और मोबाइल नंबर प्रदान करने की आवश्यकता होगी।

यदि आप उपरोक्त तरीकों से अपना पैन नंबर नहीं ढूंढ पा रहे हैं, तो आप सहायता के लिए आयकर विभाग से संपर्क कर सकते हैं।

How to check the status of your duplicate PAN card अपने डुप्लीकेट पैन कार्ड का स्टेटस कैसे चेक करें

आप इन चरणों का पालन करके अपने डुप्लीकेट पैन कार्ड की स्थिति की जांच कर सकते हैं:

  1. भारत के आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट ( www.incometaxindiaefiling.gov.in ) पर जाएं।
  2. “सेवाएं” टैब पर क्लिक करें और “अपना पैन/टैन जानें” चुनें
  3. “पैन” चुनें और “अपने पैन/टैन आवेदन की स्थिति जानें” विकल्प पर क्लिक करें
  4. पावती संख्या, नाम और जन्म तिथि या निगमन दर्ज करें
  5. अपने डुप्लीकेट पैन कार्ड आवेदन की स्थिति देखने के लिए “सबमिट” बटन पर क्लिक करें

आप अपने पैन कार्ड आवेदन की स्थिति पर किसी भी प्रश्न या अपडेट के लिए पैन कॉल सेंटर को 020-27218080 (भारत के भीतर से कॉल के लिए) या 91-20-27218000 (भारत के बाहर से कॉल के लिए) पर कॉल कर सकते हैं।

Ads से पैसे कैसे कमाए How to earn money from Ads

0

Ads से पैसे कैसे कमाए How to earn money from Ads

विज्ञापन के माध्यम से पैसा कमाने के कई तरीके हैं, जिनमें से कुछ सबसे आम हैं:

  1. गूगल ऐडसेंस: गूगल ऐडसेंस एक ऐसा कार्यक्रम है जो वेबसाइट के मालिकों को अपनी साइटों पर गूगल विज्ञापन प्रदर्शित करने और क्लिक या छापों से पैसा कमाने की अनुमति देता है।
  2. एफिलिएट मार्केटिंग: एफिलिएट मार्केटिंग में किसी कंपनी के उत्पादों या सेवाओं को बढ़ावा देना और आपके रेफ़रल लिंक से उत्पन्न प्रत्येक बिक्री या क्लिक के लिए कमीशन अर्जित करना शामिल है।
  3. प्रायोजित सामग्री: आप ब्रांड के लिए प्रायोजित सामग्री बनाकर और अपने पोस्ट में उनके उत्पादों या सेवाओं को शामिल करके भी पैसा कमा सकते हैं।
  4. इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग: यदि आपके पास इंस्टाग्राम, यूट्यूब, या टिकटॉक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बड़ी संख्या में फॉलोअर्स हैं, तो आप अपने उत्पादों को अपने अनुयायियों को बढ़ावा देने के लिए एक प्रभावशाली व्यक्ति के रूप में ब्रांड के साथ काम कर सकते हैं।
  5. विज्ञापन स्थान बेचना: यदि आपके पास उच्च यातायात वाली वेबसाइट है, तो आप सीधे विज्ञापनदाताओं को विज्ञापन स्थान बेच सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि विज्ञापन से पैसा कमाने के लिए कड़ी मेहनत और लगन की आवश्यकता होती है। सफल होने के लिए, आपको एक बड़ी ऑडियंस बनाने और उन्हें वापस आने के लिए लगातार उनसे जुड़ने की आवश्यकता होगी। इसके अतिरिक्त, आपको उस प्लेटफॉर्म से परिचित होना होगा जिसका आप उपयोग कर रहे हैं और यह समझना होगा कि अपने लक्षित दर्शकों तक प्रभावी ढंग से कैसे पहुंचा जाए।

1. Google Ads Se Paise Kamaye

Google AdSense Google द्वारा पेश किया गया एक कार्यक्रम है जो वेबसाइट के मालिकों और ब्लॉगर्स को अपनी साइट पर Google विज्ञापन प्रदर्शित करने और क्लिक या इंप्रेशन से पैसा कमाने की अनुमति देता है। यहां बताया गया है कि आप Google AdSense से पैसे कैसे कमा सकते हैं:

  1. AdSense खाते के लिए साइन अप करें: सबसे पहले, आपको Google AdSense खाते के लिए साइन अप करना होगा। इसमें आपका नाम, पता और कर जानकारी सहित व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करना और यदि आपके पास पहले से Google खाता नहीं है तो एक Google खाता बनाना शामिल है।
  2. एक वेबसाइट बनाएँ: इसके बाद, आपको एक वेबसाइट या ब्लॉग बनाना होगा जहाँ आप Google विज्ञापन प्रदर्शित करेंगे। आपकी साइट में अद्वितीय और मूल सामग्री होनी चाहिए जो आपके आगंतुकों को मूल्य प्रदान करे।
  3. अपनी साइट में AdSense कोड जोड़ें: एक बार जब आपकी साइट तैयार हो जाए और चल रही हो, तो आपको अपनी साइट में AdSense कोड जोड़ना होगा। यह आपकी साइट के HTML में कोड कॉपी और पेस्ट करके किया जा सकता है।
  4. आपकी साइट पर विज्ञापन प्रदर्शित करें: Google स्वचालित रूप से आपकी साइट पर उन विज्ञापनों को प्रदर्शित करेगा जो आपके पृष्ठ की सामग्री से प्रासंगिक हैं। आप चुन सकते हैं कि विज्ञापन कहाँ प्रदर्शित होंगे और आप किस प्रकार के विज्ञापन दिखाना चाहते हैं।
  5. पैसे कमाएँ: जब भी कोई आपकी साइट के किसी एक विज्ञापन पर क्लिक करेगा, आप पैसे कमाएँगे। आपके द्वारा अर्जित की जाने वाली राशि विज्ञापन के प्रकार, विज्ञापनदाता की बोली और अन्य कारकों पर निर्भर करेगी। जब तक आपकी कमाई भुगतान सीमा तक पहुंचती है, तब तक आपको मासिक आधार पर Google से भुगतान प्राप्त होंगे।

Google AdSense के साथ सफल होने के लिए, उच्च-गुणवत्ता वाली सामग्री बनाना महत्वपूर्ण है जो आपके लक्षित दर्शकों को आकर्षित करे और आपकी साइट पर लगातार ट्रैफ़िक लाए। इसके अतिरिक्त, आपको अपना खाता निलंबित या समाप्त होने से बचाने के लिए AdSense नीतियों और दिशानिर्देशों के साथ अप-टू-डेट रहना होगा।

Facebook Ads Se Paise Kamaye

हाँ, आप मंच पर प्रायोजित विज्ञापनों के माध्यम से उत्पादों या सेवाओं को बढ़ावा देकर फेसबुक विज्ञापनों के माध्यम से पैसा कमा सकते हैं। आप Facebook विज्ञापनों के साथ शुरुआत कैसे कर सकते हैं, इसका एक सामान्य अवलोकन यहां दिया गया है:

  1. अपने लक्षित दर्शकों को परिभाषित करें: आप अपने विज्ञापनों से किस तक पहुंचना चाहते हैं? आप उम्र, स्थान, रुचियों और व्यवहार जैसे कारकों के आधार पर लोगों को लक्षित कर सकते हैं।
  2. अपना विज्ञापन प्रारूप चुनें: फेसबुक छवि, वीडियो, हिंडोला और कहानियों के विज्ञापनों सहित कई विज्ञापन प्रारूप प्रदान करता है। वह प्रारूप चुनें जो आपके संदेश और लक्षित दर्शकों के लिए सबसे उपयुक्त हो।
  3. अपना बजट निर्धारित करें: तय करें कि आप अपने विज्ञापन अभियान पर कितना खर्च करना चाहते हैं और उसके अनुसार बजट निर्धारित करें। आप दैनिक बजट या आजीवन बजट के बीच चयन कर सकते हैं।
  4. अपना विज्ञापन बनाएँ: अपना विज्ञापन बनाने के लिए आकर्षक दृश्यों और प्रेरक प्रतिलिपि का उपयोग करें। सुनिश्चित करें कि आपका विज्ञापन फेसबुक की विज्ञापन नीतियों का अनुपालन करता है।
  5. अपना अभियान शुरू करें: एक बार जब आप अपना विज्ञापन बना लेते हैं, तो आप अपना अभियान शुरू कर सकते हैं और उसके प्रदर्शन की निगरानी कर सकते हैं। आप अपने परिणामों को अनुकूलित करने के लिए अपनी लक्षित ऑडियंस, बजट और अन्य तत्वों को आवश्यकतानुसार समायोजित कर सकते हैं।

ध्यान रखें कि Facebook विज्ञापनों के माध्यम से पैसे कमाने के लिए सावधानीपूर्वक योजना, निष्पादन और निगरानी की आवश्यकता होती है। यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि सफलता की गारंटी नहीं है और हो सकता है कि आपको अपने निवेश पर प्रतिफल न मिले।

Instagram Ads Se Paise Kamaye

हां, आप प्लेटफॉर्म पर प्रायोजित पोस्ट के जरिए उत्पादों या सेवाओं का प्रचार करके इंस्टाग्राम विज्ञापनों से पैसा कमा सकते हैं। आप Instagram विज्ञापनों के साथ शुरुआत कैसे कर सकते हैं, इसका एक सामान्य अवलोकन यहां दिया गया है:

  1. अपने लक्षित दर्शकों को परिभाषित करें: आप अपने विज्ञापनों से किस तक पहुंचना चाहते हैं? आप उम्र, स्थान, रुचियों और व्यवहार जैसे कारकों के आधार पर लोगों को लक्षित कर सकते हैं।
  2. अपना विज्ञापन प्रारूप चुनें: Instagram फ़ोटो, वीडियो, हिंडोला और स्टोरीज़ विज्ञापनों सहित कई विज्ञापन प्रारूप प्रदान करता है। वह प्रारूप चुनें जो आपके संदेश और लक्षित दर्शकों के लिए सबसे उपयुक्त हो।
  3. अपना बजट निर्धारित करें: तय करें कि आप अपने विज्ञापन अभियान पर कितना खर्च करना चाहते हैं और उसके अनुसार बजट निर्धारित करें। आप दैनिक बजट या आजीवन बजट के बीच चयन कर सकते हैं।
  4. अपना विज्ञापन बनाएँ: अपना विज्ञापन बनाने के लिए दिखने में आकर्षक विज़ुअल्स और आकर्षक कॉपी का उपयोग करें। सुनिश्चित करें कि आपका विज्ञापन Instagram की विज्ञापन नीतियों का अनुपालन करता है।
  5. अपना अभियान शुरू करें: एक बार जब आप अपना विज्ञापन बना लेते हैं, तो आप अपना अभियान शुरू कर सकते हैं और उसके प्रदर्शन की निगरानी कर सकते हैं। आप अपने परिणामों को अनुकूलित करने के लिए अपनी लक्षित ऑडियंस, बजट और अन्य तत्वों को आवश्यकतानुसार समायोजित कर सकते हैं।

ध्यान रखें कि Instagram विज्ञापनों से पैसे कमाने के लिए सावधानीपूर्वक योजना, क्रियान्वयन और निगरानी की आवश्यकता होती है। यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि सफलता की गारंटी नहीं है और हो सकता है कि आपको अपने निवेश पर प्रतिफल न मिले।

Types Of Ads

आप Facebook और Instagram पर कई तरह के विज्ञापन चला सकते हैं. यहां कुछ सबसे सामान्य प्रकार के विज्ञापन दिए गए हैं:

  1. छवि विज्ञापन: ये साधारण विज्ञापन होते हैं जिनमें एक छवि और कुछ संलग्न पाठ होते हैं। स्पष्ट दृश्य अपील वाले उत्पादों या सेवाओं का प्रचार करने के लिए छवि विज्ञापन सर्वोत्तम हैं।
  2. वीडियो विज्ञापन: ये ऐसे विज्ञापन होते हैं जिनमें एक छोटा वीडियो और कुछ संलग्न पाठ होते हैं। वीडियो विज्ञापन कहानी सुनाने और उत्पादों या सेवाओं को क्रियान्वित करने के लिए बहुत अच्छे हैं।
  3. Carousel विज्ञापन: ये ऐसे विज्ञापन हैं जो आपको एक ही विज्ञापन में कई चित्र या वीडियो दिखाने की अनुमति देते हैं। हिंडोला विज्ञापन एक ही विज्ञापन में अनेक उत्पादों या सेवाओं का प्रचार करने के लिए आदर्श हैं।
  4. स्टोरीज़ विज्ञापन: ये फ़ुल-स्क्रीन विज्ञापन हैं जो Facebook और Instagram के स्टोरीज़ सेक्शन में दिखाई देते हैं। स्टोरीज़ विज्ञापन उन उपयोगकर्ताओं तक पहुँचने के लिए बहुत अच्छे हैं जो प्लेटफ़ॉर्म से सक्रिय रूप से जुड़े हुए हैं।
  5. संग्रह विज्ञापन: ये ऐसे विज्ञापन हैं जो उपयोगकर्ताओं को विज्ञापन के भीतर सीधे उत्पादों के साथ इंटरैक्ट करने की अनुमति देते हैं। संग्रह विज्ञापन ई-कॉमर्स व्यवसायों के लिए आदर्श हैं।
  6. लीड जनरेशन विज्ञापन: ये ऐसे विज्ञापन हैं जिन्हें आपके व्यवसाय के लिए लीड उत्पन्न करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। लीड जनरेशन विज्ञापनों में आमतौर पर एक फॉर्म शामिल होता है जिसे उपयोगकर्ता अपनी संपर्क जानकारी प्रदान करने के लिए भर सकते हैं।
  7. गतिशील विज्ञापन: ये ऐसे विज्ञापन हैं जो प्रत्येक उपयोगकर्ता के लिए उनकी रुचियों और व्यवहारों के आधार पर स्वचालित रूप से अनुकूलित किए जाते हैं। डायनेमिक विज्ञापन रिटारगेटिंग अभियानों के लिए आदर्श होते हैं।

प्रत्येक प्रकार के विज्ञापन के अपने लाभ और सीमाएँ होती हैं, और सही प्रकार का विज्ञापन चुनना आपकी विशिष्ट व्यावसायिक आवश्यकताओं और उद्देश्यों पर निर्भर करेगा।

हीमोफीलिया रोग क्यों होता है Why is hemophilia a disease?

0

World Hemophilia Day

विश्व हीमोफिलिया दिवस प्रतिवर्ष 17 अप्रैल को हेमोफिलिया, एक आनुवंशिक रक्तस्राव विकार और अन्य रक्तस्राव विकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। हेमोफिलिया से प्रभावित लोगों के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में लोगों को शिक्षित करने और रक्तस्राव विकारों वाले सभी लोगों की देखभाल और उपचार तक पहुंच को बढ़ावा देने के लिए विश्व स्तर पर यह दिन मनाया जाता है। विश्व हीमोफिलिया दिवस की थीम हर साल बदलती है और हीमोफिलिया के एक विशिष्ट पहलू पर केंद्रित होती है।

हीमोफीलिया रोग क्यों होता है Why is hemophilia a disease?

हेमोफिलिया एक आनुवंशिक रक्तस्राव विकार है जो रक्त को ठीक से थक्का बनाने में असमर्थता की विशेषता है। इससे मामूली चोटों से भी अत्यधिक रक्तस्राव और चोट लग जाती है। हेमोफिलिया विशिष्ट क्लॉटिंग कारकों की कमी या अनुपस्थिति के कारण होता है, जो रक्त में प्रोटीन होते हैं जो रक्तस्राव को नियंत्रित करते हैं। हीमोफिलिया के दो मुख्य प्रकार हैं, हीमोफिलिया ए और हीमोफिलिया बी, जो विभिन्न आनुवंशिक उत्परिवर्तन के कारण होते हैं। हेमोफिलिया विरासत में मिला है और आम तौर पर माता के जीन के माध्यम से माता-पिता से बच्चे में पारित होता है।

हीमोफीलिया के प्रकार

हीमोफिलिया के दो मुख्य प्रकार हैं:

हीमोफिलिया ए (क्लासिकल हीमोफिलिया के रूप में भी जाना जाता है) – क्लॉटिंग फैक्टर VIII की कमी के कारण होता है।

हीमोफिलिया बी (क्रिसमस रोग के रूप में भी जाना जाता है) – थक्के कारक IX की कमी के कारण होता है।

दोनों प्रकार के हीमोफिलिया से अत्यधिक रक्तस्राव और चोट लग सकती है, और हीमोफिलिया वाले व्यक्तियों में विकार की गंभीरता बहुत भिन्न हो सकती है। इस स्थिति वाले कुछ लोगों में केवल कभी-कभी रक्तस्राव के एपिसोड हो सकते हैं, जबकि अन्य को लगातार, गंभीर रक्तस्राव का अनुभव हो सकता है जो जीवन के लिए खतरा हो सकता है।

विश्व हीमोफीलिया दिवस का इतिहास

विश्व हीमोफिलिया दिवस पहली बार 17 अप्रैल 1989 को मनाया गया था, और अब वैश्विक हीमोफिलिया समुदाय द्वारा 17 अप्रैल को प्रतिवर्ष मनाया जाता है। यह दिन हीमोफिलिया और अन्य रक्तस्राव विकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और इन स्थितियों से प्रभावित लोगों के लिए बेहतर देखभाल और सहायता को बढ़ावा देने के लिए समर्पित है।

विश्व हीमोफिलिया दिवस का विषय हर साल बदलता है और बीमारी के एक अलग पहलू पर ध्यान केंद्रित करता है, जैसे उपचार तक पहुंच, नियमित निगरानी और देखभाल का महत्व, या परिवारों और समुदायों पर रक्तस्राव विकारों का प्रभाव।

विश्व हीमोफिलिया दिवस का लक्ष्य हीमोफिलिया और अन्य रक्तस्राव विकारों से पीड़ित लोगों के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और इन स्थितियों में अधिक समझ, बेहतर देखभाल और अनुसंधान में वृद्धि की वकालत करना है

Digiboxx क्या है, [Free Cloud Storage, Price, Coupon]

0

Digiboxx क्या है, प्राइस, कूपन (Kya hai, Free Cloud Storage, Pricing, Coupon Code, Owner, Launched By, Niti Ayog, Uses, Benefits in Hindi)

Digiboxx भारत में व्यवसायों और व्यक्तियों के लिए क्लाउड-आधारित डिजिटल संपत्ति प्रबंधन मंच है। यह डिजिटल फाइलों और दस्तावेजों का सुरक्षित भंडारण और साझाकरण प्रदान करता है।
Digiboxx सुरक्षित फ़ाइल संग्रहण, फ़ाइल साझाकरण, सहयोग और संस्करण नियंत्रण जैसी सुविधाएँ प्रदान करता है। यह उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस और इंटरनेट एक्सेस के साथ किसी भी डिवाइस से फाइलों तक पहुंच भी प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त, इसमें उपयोगकर्ता डेटा की सुरक्षा के लिए डेटा गोपनीयता और सुरक्षा उपाय हैं।

Digiboxx का इस्तेमाल कैसे करें  How to use Digiboxx

Digiboxx का उपयोग करने के लिए, इन चरणों का पालन करें:

  • साइन अप करें: Digiboxx वेबसाइट या मोबाइल ऐप के माध्यम से एक खाते के लिए पंजीकरण करें।
  • फ़ाइलें अपलोड करें: सुरक्षित संग्रहण के लिए अपनी डिजिटल फ़ाइलें और दस्तावेज़ अपने खाते में अपलोड करें।
  • फ़ाइलें साझा करें: एक सुरक्षित लिंक भेजकर या विशिष्ट व्यक्तियों को पहुंच प्रदान करके दूसरों के साथ फ़ाइलें साझा करें।
  • सहयोग करें: रीयल-टाइम में साझा किए गए दस्तावेज़ों और फ़ाइलों पर दूसरों के साथ मिलकर काम करें।
  • फ़ाइलें एक्सेस करें: Digiboxx ऐप या वेबसाइट का उपयोग करके इंटरनेट एक्सेस के साथ कहीं से भी अपनी फ़ाइलें एक्सेस करें।
  • फ़ाइलें प्रबंधित करें: अपनी फ़ाइलों और फ़ोल्डरों को व्यवस्थित करें और संस्करण नियंत्रण सुविधा के साथ संस्करण प्रबंधित करें।
  • गोपनीयता सुनिश्चित करें: अपनी संवेदनशील जानकारी की सुरक्षा के लिए डेटा गोपनीयता और सुरक्षा उपायों को सक्षम करें।

Digiboxx इस्तेमाल करने के फायदे Benefits of using Digiboxx

Digiboxx का उपयोग करने के कुछ लाभों हैं:

  • सुरक्षित भंडारण: एन्क्रिप्शन और सुरक्षित डेटा केंद्रों के साथ आपकी डिजिटल फाइलों और दस्तावेजों को सुरक्षित रखता है।
  • अभिगम्यता: किसी भी डिवाइस पर इंटरनेट एक्सेस के साथ कहीं से भी अपनी फ़ाइलें एक्सेस करें।
  • सहयोग: रीयल-टाइम में साझा की गई फ़ाइलों पर दूसरों के साथ मिलकर काम करें।
  • संस्करण नियंत्रण: दस्तावेज़ों और फ़ाइलों के विभिन्न संस्करणों का ट्रैक रखें।
  • डेटा गोपनीयता: मजबूत गोपनीयता और सुरक्षा उपायों के साथ उपयोगकर्ता डेटा की सुरक्षा करता है।
  • उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफ़ेस: फ़ाइलों को प्रबंधित करने और दूसरों के साथ साझा करने के लिए एक सरल और सहज इंटरफ़ेस प्रदान करता है।
  • लागत प्रभावी: पारंपरिक डेटा संग्रहण विधियों की तुलना में व्यवसायों और व्यक्तियों के लिए लागत प्रभावी समाधान प्रदान करता है।

How much does Digiboxx cost (Pricing)

Digiboxx भंडारण की मात्रा और आवश्यक उपयोगकर्ताओं की संख्या के आधार पर विभिन्न प्रकार की मूल्य निर्धारण योजनाएँ प्रदान करता है। सटीक मूल्य निर्धारण विवरण Digiboxx वेबसाइट पर पाया जा सकता है, लेकिन मेरे ज्ञान कटऑफ के अनुसार, योजनाएं आम तौर पर एक मुफ्त बुनियादी योजना से सीमित भंडारण के साथ अधिक भंडारण और उन्नत सुविधाओं के साथ भुगतान योजनाओं तक होती हैं। बड़े संगठनों के लिए कस्टम मूल्य निर्धारण विकल्प भी उपलब्ध हो सकते हैं।

Digiboxx Launch Date

Digiboxx भारत में व्यक्तियों और व्यवसायों के लिए सुरक्षित भंडारण और डिजिटल फाइलों और दस्तावेजों को साझा करने के लिए भारत सरकार द्वारा विकसित एक डिजिटल संपत्ति प्रबंधन मंच है। इसे बेहतर शासन और सेवाओं के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए सरकार की डिजिटल इंडिया पहल के हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया था। Digiboxx को आधिकारिक तौर पर 21 जनवरी, 2021 को लॉन्च किया गया था, और इसका उद्देश्य पारंपरिक डेटा स्टोरेज विधियों के लिए लागत प्रभावी, सुरक्षित और उपयोगकर्ता के अनुकूल विकल्प प्रदान करना है।

रिज्यूमे कैसे बनाये | Resume kaise banaye format in hindi 2023

0

रिज्यूमे क्या है, अर्थ, मतलब, मीनिंग (What is Resume in Hindi), कैसे बनाएं, बनाने की वेबसाइट, फॉर्मेट, मेकर, जॉब, बायोडाटा, सीवी, अंतर (kya Hai, Kaise Banaye, How to Make Resume, Meaning, Format, Maker, Website, Biodata, CV, Difference)

बायोडाटा Resume एक लिखित दस्तावेज है जो किसी व्यक्ति की शिक्षा, कार्य अनुभव, कौशल और उपलब्धियों का सारांश प्रस्तुत करता है। इसका उपयोग नौकरियों के लिए आवेदन करने और संभावित नियोक्ताओं को आवेदक की योग्यता दिखाने के लिए किया जाता है। एक फिर से शुरू में आमतौर पर व्यक्तिगत जानकारी, उद्देश्य या सारांश विवरण, शिक्षा, कार्य अनुभव, कौशल और संदर्भ शामिल होते हैं। एक फिर से शुरू करने का लक्ष्य भर्ती प्रबंधक को प्रदर्शित करना है कि आप नौकरी के लिए उपयुक्त क्यों हैं और उन्हें आपके साथ एक साक्षात्कार क्यों निर्धारित करना चाहिए।

रिज्यूमे के प्रकार (Types)

  1. कालानुक्रमिक रिज्यूमे: इस प्रकार का रिज्यूमे रिवर्स कालानुक्रमिक क्रम में काम के अनुभव को सूचीबद्ध करता है, जो सबसे हालिया स्थिति से शुरू होता है।
  2. कार्यात्मक रिज्यूमे: इस प्रकार का रिज्यूमे कार्य इतिहास के बजाय कौशल और उपलब्धियों पर केंद्रित होता है, और अक्सर उन व्यक्तियों द्वारा उपयोग किया जाता है जिनके रोजगार के इतिहास में अंतराल है या करियर बदल रहे हैं।
  3. कॉम्बिनेशन रिज्यूमे: इस प्रकार का रिज्यूमे कालानुक्रमिक और कार्यात्मक दोनों तरह के रिज्यूमे के तत्वों को जोड़ता है, जो कार्य अनुभव और कौशल दोनों को उजागर करता है।
  4. लक्षित बायोडाटा: इस प्रकार का रिज्यूमे एक विशिष्ट नौकरी के अनुरूप होता है और उस स्थिति के लिए सबसे अधिक प्रासंगिक कौशल और अनुभव पर जोर देता है।
  5. इन्फोग्राफिक रिज्यूमे: इस प्रकार का रिज्यूमे किसी व्यक्ति के कौशल और अनुभव को प्रदर्शित करने के लिए ग्राफिक्स, चार्ट और अन्य विज़ुअल एड्स का उपयोग करता है।
  6. ऑनलाइन या डिजिटल रिज्यूमे: इस प्रकार का रिज्यूमे ऑनलाइन जॉब एप्लिकेशन के लिए अनुकूलित है और इसे डिजिटल फॉर्मेट में स्टोर और ट्रांसमिट किया जा सकता है।

Resume बनाने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए Things to keep in mind before making resume

  • रिज्यूमे को नौकरी के विवरण के अनुसार तैयार करें: प्रासंगिक कौशल और अनुभव को उजागर करते हुए, आपके द्वारा आवेदन की जाने वाली प्रत्येक नौकरी के लिए अपने रिज्यूमे को अनुकूलित करना सुनिश्चित करें।
  • इसे संक्षिप्त रखें: एक पेज का बायोडाटा बनाने का लक्ष्य रखें और किसी भी अप्रासंगिक जानकारी को हटा दें।
  • हाइलाइट उपलब्धियां: केवल कर्तव्यों और जिम्मेदारियों के बजाय मात्रात्मक उपलब्धियों और परिणामों पर ध्यान दें।
  • खोजशब्दों का उपयोग करें: आवेदक ट्रैकिंग सिस्टम द्वारा आपके फिर से शुरू होने की संभावना बढ़ाने के लिए नौकरी विवरण से प्रासंगिक खोजशब्दों को शामिल करना सुनिश्चित करें।
  • इसे देखने में आकर्षक बनाएं: रिज्यूमे को पढ़ने में आसान बनाने के लिए स्पष्ट, सुपाठ्य फोंट और फॉर्मेटिंग का उपयोग करें।
  • सावधानीपूर्वक प्रूफ़रीड करें: वर्तनी और व्याकरण की त्रुटियों की जाँच करें, क्योंकि वे संभावित नियोक्ताओं के लिए खतरे की घंटी हो सकती हैं।
  • एक पेशेवर ईमेल पता शामिल करें: विशेष रूप से नौकरी खोजने के लिए एक पेशेवर ईमेल पता बनाएं।
  • नियमित रूप से अपडेट करें: नए कौशल और अनुभवों सहित अपना रिज्यूमे अप-टू-डेट रखें।
  • किसी मित्र या सलाहकार की समीक्षा करने पर विचार करें: इसे जमा करने से पहले अपने रेज़्यूमे पर एक नया दृष्टिकोण और प्रतिक्रिया प्राप्त करें।
  • सच्चा बनो: अपने कौशल या अनुभव के बारे में अतिशयोक्ति या झूठ मत बोलो। ईमानदारी सदा सर्वोत्तम नीति होती है।

रिज्यूमे में क्या जानकारी देनी चाहिए What information should be given in the resume

  • संपर्क जानकारी: नाम, पता, फोन नंबर और ईमेल पता।
  • उद्देश्य या सारांश कथन: एक संक्षिप्त विवरण जो आपके करियर के लक्ष्यों को रेखांकित करता है और आप इस स्थिति में क्या ला सकते हैं।
  • शिक्षा: प्रासंगिक शोध और सम्मान सहित डिग्री और शैक्षिक संस्थानों की सूची।
  • कार्य अनुभव: नौकरी के शीर्षक, कंपनी, रोजगार की तिथियां, और प्रमुख जिम्मेदारियों और उपलब्धियों सहित पिछली नौकरी की स्थिति की एक सूची।
  • कौशल: प्रासंगिक कौशल, तकनीकी और सॉफ्ट कौशल सहित, जो काम करने की आपकी क्षमता को प्रदर्शित करता है।
  • प्रमाणपत्र: प्रासंगिक प्रमाणपत्र या पेशेवर लाइसेंस।
  • पुरस्कार और सम्मान: आपके कार्य के लिए प्राप्त सम्मान या पुरस्कार।
  • स्वयंसेवी अनुभव: प्रासंगिक स्वयंसेवक या सामुदायिक सेवा अनुभव।
  • भाषाएँ: उन विदेशी भाषाओं की सूची जिनमें आप धाराप्रवाह हैं।
  • संदर्भ: पेशेवर संदर्भों की सूची, नाम, शीर्षक, कंपनी और संपर्क जानकारी सहित (वैकल्पिक, लेकिन अक्सर अनुरोधित)।

सीवी और रिज्यूमे में अंतर Difference Between CV and Resume)

  • लंबाई: एक सीवी आमतौर पर लंबा और अधिक विस्तृत होता है, अक्सर 2 या अधिक पृष्ठ होते हैं, जबकि एक रिज्यूमे आमतौर पर 1 पृष्ठ होता है और सबसे प्रासंगिक और हाल की जानकारी पर केंद्रित होता है।
  • उद्देश्य: एक सीवी का उपयोग अकादमिक या शोध पदों के लिए किया जाता है, और व्यक्ति की शिक्षा, अनुसंधान और प्रकाशनों पर ध्यान केंद्रित करता है, जबकि नौकरी के अनुप्रयोगों के लिए एक फिर से शुरू किया जाता है और व्यक्ति के कार्य अनुभव, कौशल और योग्यता पर ध्यान केंद्रित करता है।
  • स्वरूपण: सीवी में आमतौर पर एक अधिक संरचित प्रारूप होता है, जिसमें प्रत्येक अनुभाग के शीर्षक होते हैं, जबकि रिज्यूमे अक्सर बुलेट पॉइंट और छोटे पैराग्राफ का उपयोग करते हैं।
  • व्यक्तिगत जानकारी: सीवी में अक्सर अधिक व्यक्तिगत जानकारी शामिल होती है, जैसे कि राष्ट्रीयता, जन्म तिथि और वैवाहिक स्थिति, जबकि रिज्यूमे में आमतौर पर यह जानकारी शामिल नहीं होती है।
  • अनुकूलन: सीवी आमतौर पर विशिष्ट नौकरियों के लिए कम अनुकूलित होते हैं, जबकि रिज्यूमे प्रत्येक नौकरी आवेदन के अनुरूप होते हैं।
  • स्वर: सीवी में अधिक औपचारिक स्वर होता है, जबकि रिज्यूमे अक्सर अधिक संवादी स्वर का उपयोग करता है।
  • संक्षेप में, सीवी और रिज्यूमे के बीच मुख्य अंतर उनकी लंबाई, उद्देश्य और फोकस है। आप जिस प्रकार की नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं और जिस जानकारी को प्रदर्शित करने की आवश्यकता है, उसके आधार पर उपयुक्त प्रारूप चुनें।

अथिया शेट्टी का जीवन परिचय । Athiya Shetty Biography in Hindi

0

अथिया शेट्टी का जीवन परिचय ,जीवनी , बायोग्राफी ,परिवार ,पति ,बॉयफ्रेंड ( Athiya Shetty Biography In Hindi ,Wiki ,boyfriend ,Husband ,Family ,Religion , Age, Height, Caste ,Net Worth  )

अथिया शेट्टी एक भारतीय अभिनेत्री हैं जिनका जन्म 5 नवंबर 1992 को हुआ था। उन्होंने 2015 में बॉलीवुड फिल्म “हीरो” से अभिनय की शुरुआत की। वह भारतीय अभिनेता सुनील शेट्टी की बेटी हैं। शेट्टी कई अन्य बॉलीवुड फिल्मों में दिखाई दिए हैं, जिनमें “मुबारकां” (2017) और “मोतीचूर चकनाचूर” (2019) शामिल हैं। वह अपने स्टाइल और फैशन सेंस के लिए भी जानी जाती हैं, और कई कंपनियों के लिए ब्रांड एंबेसडर के रूप में काम कर चुकी हैं।

अथिया शेट्टी का प्रारंभिक जीवन Athiya Shetty’s early life

अथिया शेट्टी का जन्म मुंबई, भारत में अभिनेता सुनील शेट्टी और माना शेट्टी के घर हुआ था। वह एक फिल्मी पृष्ठभूमि में पली-बढ़ी और छोटी उम्र से ही फिल्म उद्योग के संपर्क में आ गई। उन्होंने मुंबई में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की और बाद में अमेरिका में अभिनय और फिल्म निर्माण में उच्च शिक्षा प्राप्त की। अभिनय की शुरुआत करने से पहले, शेट्टी ने कुछ फिल्मों में सहायक निर्देशक के रूप में काम किया।

अथिया शेट्टी की शिक्षा Athiya Shetty’s education

अथिया शेट्टी ने मुंबई, भारत में धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल में अपनी शिक्षा पूरी की। उसके बाद वह संयुक्त राज्य अमेरिका में न्यूयॉर्क फिल्म अकादमी में अध्ययन करने चली गईं, जहाँ उन्होंने अभिनय में डिग्री प्राप्त की।

अथिया शेट्टी परिवार Athiya Shetty Family

अथिया शेट्टी का जन्म भारतीय अभिनेता सुनील शेट्टी और उनकी पत्नी माना शेट्टी से हुआ था। उनका एक छोटा भाई है जिसका नाम अहान शेट्टी है, जो एक अभिनेता भी है।

अथिया शेट्टी पहली फिल्म Athiya Shetty First Movie

अथिया शेट्टी ने 2015 की बॉलीवुड फिल्म “हीरो” से अभिनय की शुरुआत की।

“हीरो” निखिल आडवाणी द्वारा निर्देशित 2015 की बॉलीवुड एक्शन फिल्म है। इसमें सूरज पंचोली और अथिया शेट्टी मुख्य भूमिकाओं में हैं, जो फिल्म उद्योग में शेट्टी की पहली फिल्म है। यह फिल्म 1983 में इसी नाम की फिल्म का रीमेक थी, और एक ऐसे युवक की कहानी है जो अपराध और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए एक सतर्क व्यक्ति के रूप में प्रशिक्षित होता है। हालांकि फिल्म को समीक्षकों से मिश्रित समीक्षाएं मिलीं, शेट्टी के प्रदर्शन को दर्शकों ने खूब सराहा और उन्हें विभिन्न पुरस्कार समारोहों में सर्वश्रेष्ठ महिला पदार्पण के लिए कई नामांकन प्राप्त हुए।

अथिया शेट्टी मूवी करियर Athiya Shetty Movie Career

अथिया शेट्टी ने 2015 की बॉलीवुड फिल्म “हीरो” से अभिनय की शुरुआत की। तब से, वह “मुबारकां” (2017) और “मोतीचूर चकनाचूर” (2019) सहित कई अन्य बॉलीवुड फिल्मों में दिखाई दी हैं। वह एक अभिनेत्री के रूप में अपनी बहुमुखी प्रतिभा और अपने किरदारों में गहराई लाने की क्षमता के लिए जानी जाती हैं। उन्हें अपने प्रदर्शन के लिए कई नामांकन प्राप्त हुए हैं, और दर्शकों और समीक्षकों द्वारा समान रूप से उनकी प्रशंसा की गई है। अपने अपेक्षाकृत छोटे करियर के बावजूद, शेट्टी ने खुद को बॉलीवुड में सबसे होनहार युवा अभिनेत्रियों में से एक के रूप में स्थापित किया है, और उद्योग में उनके आगे एक उज्ज्वल भविष्य है।

अथिया शेट्टी मूवी लिस्ट Athiya Shetty Movie List

यहां कुछ ऐसी फिल्मों की सूची दी गई है, जिनमें अथिया शेट्टी दिखाई दी हैं:

  • “हीरो” (2015)
  • “मुबारकां” (2017)
  • “मोतीचूर चकनाचूर” (2019)
  • “तानाजी: द अनसंग वॉरियर” (2020)
  • “होप और हम” (2018)
  • नोट: यह पूरी सूची नहीं है और इसमें केवल उनकी कुछ प्रमुख फिल्में शामिल हैं।

अथिया शेट्टी अवार्ड्स लिस्ट Athiya Shetty Awards List

अथिया शेट्टी को उनके अभिनय के लिए मिले कुछ पुरस्कारों और नामांकनों की सूची यहां दी गई है:

  • मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यूकमर के लिए स्टार स्क्रीन अवार्ड – “हीरो” (2015) के लिए महिला
  • सबसे मनोरंजक डेब्यू के लिए बिग स्टार एंटरटेनमेंट अवार्ड – “हीरो” (2015) के लिए महिला
  • “हीरो” (2015) के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पदार्पण के लिए जी सिने पुरस्कार
  • स्टार डेब्यू ऑफ द ईयर के लिए अंतर्राष्ट्रीय भारतीय फिल्म अकादमी पुरस्कार – “हीरो” (2015) के लिए महिला
  • “हीरो” (2015) के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पदार्पण के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार

नोट: यह एक विस्तृत सूची नहीं है और इसमें केवल उनके कुछ प्रमुख पुरस्कार और नामांकन शामिल हैं।

अथिया शेट्टी नेट वर्थ Athiya Shetty Net Worth

2023 तक अथिया शेट्टी की कुल संपत्ति लगभग $4 मिलियन डॉलर होने का अनुमान है। यह काफी हद तक बॉलीवुड में एक अभिनेत्री के रूप में उनके सफल करियर के साथ-साथ उनके ब्रांड एंडोर्समेंट और विज्ञापनों के कारण है। उसकी निवल संपत्ति भविष्य में बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि वह नई परियोजनाओं को लेना जारी रखती है और अपने करियर का विस्तार करती है

आयरन एयर बैटरी क्या हैं फ़ायदे नुक़सान Iron Air Battery kya hai

0

आयरन एयर बैटरी क्या है what is iron air battery

आयरन-एयर बैटरी Iron Air Battery एक प्रकार की रिचार्जेबल बैटरी है जो डिस्चार्ज रिएक्शन में अभिकारकों के रूप में हवा से आयरन इलेक्ट्रोड और ऑक्सीजन का उपयोग करती है। प्रौद्योगिकी अपने उच्च सैद्धांतिक ऊर्जा घनत्व के कारण बड़े पैमाने पर ऊर्जा भंडारण के लिए आशाजनक है। हालांकि, संक्षारण और क्षमता क्षीण होने जैसे कारकों के कारण व्यावहारिक और कुशल आयरन-एयर बैटरियों का विकास एक चुनौती बना हुआ है।

आयरन एयर बैटरी कैसे काम करती हैं? How do Iron Air batteries work?

आयरन-एयर बैटरी हवा में आयरन और ऑक्सीजन के बीच रेडॉक्स (रिडक्शन-ऑक्सीकरण) प्रतिक्रिया के माध्यम से काम करती हैं। बैटरी में दो इलेक्ट्रोड होते हैं, एक सकारात्मक रूप से आवेशित लौह इलेक्ट्रोड (कैथोड) और एक नकारात्मक रूप से आवेशित वायु इलेक्ट्रोड (एनोड)। डिस्चार्ज के दौरान, आयरन हवा से ऑक्सीजन के साथ हाइड्रेटेड आयरन ऑक्साइड बनाने के लिए प्रतिक्रिया करता है, जो इलेक्ट्रॉनों को छोड़ता है और करंट उत्पन्न करता है। चार्जिंग के दौरान रिवर्स रिएक्शन होता है, जहां हाइड्रेटेड आयरन ऑक्साइड वापस आयरन और ऑक्सीजन में कम हो जाता है, इलेक्ट्रॉनों का उपभोग करता है और बैटरी को रिचार्ज करता है। आयरन-एयर बैटरियों की दक्षता और प्रदर्शन आयरन इलेक्ट्रोड की स्थिरता, ऑक्सीजन की उपलब्धता और रेडॉक्स प्रतिक्रिया की दर जैसे कारकों पर निर्भर करती है।

आयरन एयर बैटरी के फायदे Advantages of Iron Air Battery

आयरन-एयर बैटरी के मुख्य लाभ हैं:

  • उच्च ऊर्जा घनत्व: आयरन-एयर बैटरी में उच्च सैद्धांतिक ऊर्जा घनत्व होता है, जो उन्हें बड़े पैमाने पर ऊर्जा भंडारण के लिए एक आशाजनक तकनीक बनाता है।
  • प्रचुर मात्रा में सामग्री: लोहा और ऑक्सीजन प्रचुर मात्रा में और अपेक्षाकृत सस्ती सामग्री हैं, जो लोहे-वायु बैटरी को एक लागत प्रभावी ऊर्जा भंडारण विकल्प बनाती हैं।
  • पर्यावरण के अनुकूल: आयरन-एयर बैटरी केवल प्राकृतिक सामग्री का उपयोग करती हैं, इसलिए वे विषाक्त अपशिष्ट उत्पन्न नहीं करती हैं या पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाती हैं।
  • लंबा चक्र जीवन: आयरन-एयर बैटरियों में एक लंबे चक्र जीवन की क्षमता होती है, जिसका अर्थ है कि उन्हें प्रदर्शन में महत्वपूर्ण गिरावट के बिना कई बार रिचार्ज और डिस्चार्ज किया जा सकता है।

हालाँकि, व्यावहारिक और कुशल आयरन-एयर बैटरियों का विकास एक चुनौती बना हुआ है, और तकनीक अभी भी विकास के प्रारंभिक चरण में है

आयरन एयर बैटरी का महत्व Importance of Iron Air Battery

आयरन-एयर बैटरियों में कई प्रमुख क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की क्षमता है, जिनमें शामिल हैं:

  • नवीकरणीय ऊर्जा भंडारण: आयरन-एयर बैटरी का उपयोग पवन और सौर ऊर्जा जैसे नवीकरणीय स्रोतों से ऊर्जा को संग्रहीत करने के लिए किया जा सकता है, जिससे सूर्य के चमकने और हवा न चलने पर भी बिजली का एक सुसंगत और विश्वसनीय स्रोत प्रदान करना संभव हो जाता है।
  • ग्रिड-स्केल ऊर्जा भंडारण: आयरन-एयर बैटरी इलेक्ट्रिक ग्रिड के लिए बड़े पैमाने पर ऊर्जा भंडारण प्रदान कर सकती हैं, जिससे आपूर्ति और मांग को संतुलित करने और ग्रिड स्थिरता में सुधार करने में मदद मिलती है।
  • परिवहन: आयरन-एयर बैटरियों में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए ऊर्जा भंडारण तकनीक के रूप में उपयोग करने की क्षमता है, जो लंबी ड्राइविंग रेंज को सक्षम करती है और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करती है।
  • ऑफ-ग्रिड पावर: आयरन-एयर बैटरियों का उपयोग दूरस्थ क्षेत्रों में ऑफ-ग्रिड पावर प्रदान करने के लिए किया जा सकता है जहां इलेक्ट्रिक ग्रिड तक पहुंच सीमित है या उपलब्ध नहीं है।

कुल मिलाकर, आयरन-एयर बैटरियों के विकास और व्यापक रूप से अपनाने से ऊर्जा भंडारण क्षमताओं में सुधार और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों के विकास को सक्षम करके ऊर्जा परिदृश्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

आयरन एयर बैटरी की कीमत iron air battery price

विकास के वर्तमान चरण और सीमित व्यावसायिक उपलब्धता के कारण आयरन-एयर बैटरियों की कीमत अभी भी अपेक्षाकृत अधिक है। वर्तमान में, आयरन-एयर बैटरियों का उपयोग ज्यादातर आला अनुप्रयोगों और अनुसंधान परियोजनाओं में किया जाता है, और उनकी लागत कम होने की उम्मीद है क्योंकि तकनीक अधिक परिपक्व हो जाती है और उत्पादन प्रक्रियाओं को बढ़ाया जाता है। इसके अतिरिक्त, आयरन-एयर बैटरी की कीमत विशिष्ट डिज़ाइन, प्रदर्शन और एप्लिकेशन आवश्यकताओं के आधार पर भिन्न हो सकती है।

आयरन-एयर बैटरियों के लिए एक सटीक मूल्य सीमा प्रदान करना मुश्किल है क्योंकि तकनीक अभी भी विकास के अपने प्रारंभिक चरण में है और कीमतों में समय के साथ बदलाव होने की संभावना है क्योंकि तकनीक में सुधार होता है और अधिक व्यापक रूप से अपनाया जाता है।

निजता का अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला | Supreme Court Decision on Right to Privacy in hindi

0

निजता का अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला Supreme Court Decision on Right to Privacy

केएस पुट्टास्वामी बनाम भारत संघ के मामले में 2017 के सुप्रीम कोर्ट के फैसले में कहा गया था कि निजता का अधिकार Right to Privacy भारतीय संविधान के तहत एक मौलिक अधिकार है, जो अनुच्छेद 21 के तहत संरक्षित है। इस ऐतिहासिक फैसले ने निजता को जीवन के अधिकार के आंतरिक हिस्से के रूप में स्थापित किया। और स्वतंत्रता, और भारत में व्यक्तिगत स्वतंत्रता और डेटा संरक्षण के लिए इसके दूरगामी निहितार्थ हैं।

निजता का अधिकार क्या है What is Right to Privacy

निजता का अधिकार किसी व्यक्ति की व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारी, जैसे कि उनके विचार, भावनाओं और गतिविधियों को सार्वजनिक जांच और अनधिकृत पहुंच से सुरक्षित रखने की क्षमता को संदर्भित करता है। इसमें भौतिक गोपनीयता शामिल है, जैसे किसी के घर और शरीर की गोपनीयता, और सूचनात्मक गोपनीयता, जैसे किसी के व्यक्तिगत डेटा और संचार की गोपनीयता। निजता के अधिकार को एक मौलिक मानव अधिकार माना जाता है, और विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कानूनों द्वारा संरक्षित है।

निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है या नहीं Right to Privacy is a Fundamental Right or Not

निजता के अधिकार को भारत सहित कई देशों द्वारा मौलिक अधिकार माना जाता है, जहां इसे सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 2017 के केएस पुट्टास्वामी बनाम भारत संघ के मामले में मौलिक अधिकार घोषित किया गया था। संयुक्त राज्य अमेरिका स्पष्ट रूप से अपने संविधान में निजता के अधिकार को एक मौलिक अधिकार के रूप में मान्यता नहीं देता है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने निजता के अधिकारों के लिए कुछ सुरक्षा प्रदान करने वाले चौथे संशोधन जैसे कई प्रावधानों की व्याख्या की है। यूरोपीय संघ में, गोपनीयता का अधिकार यूरोपीय संघ के मौलिक अधिकारों के चार्टर में निहित है। सामान्य तौर पर, निजता के अधिकार को मानवीय गरिमा और स्वायत्तता के एक अनिवार्य पहलू के रूप में व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त है।

आधार और निजता का अधिकार Aadhar and Right to Privacy

आधार का उपयोग, भारत का राष्ट्रीय बायोमेट्रिक पहचान कार्यक्रम, विशेष रूप से गोपनीयता के संबंध में एक विवादास्पद मुद्दा रहा है। जबकि भारत सरकार का तर्क है कि आधार सामाजिक सेवाओं के कुशल वितरण और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए आवश्यक है, गोपनीयता अधिवक्ताओं ने आधार डेटाबेस द्वारा एकत्र की गई व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा और इस जानकारी के दुरुपयोग की संभावना के बारे में चिंता जताई है। निजता के अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट के 2017 के फैसले को आधार को विभिन्न सेवाओं से अनिवार्य रूप से जोड़ने को चुनौती देने वाले मामलों में लागू किया गया है, कुछ चुनौतियों को खत्म कर दिया गया है जबकि अन्य को बरकरार रखा गया है। कुल मिलाकर, आधार और निजता के अधिकार के बीच संबंध भारत में एक विवादास्पद मुद्दा बना हुआ है।

सुप्रीमकोर्ट का नजरिया Supreme Court’s View on Right to Privacy

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने निजता के अधिकार को भारतीय संविधान के तहत मौलिक अधिकार घोषित किया है। केएस पुट्टास्वामी बनाम भारत संघ के मामले में ऐतिहासिक 2017 के फैसले में, अदालत ने कहा कि निजता संविधान के अनुच्छेद 21 द्वारा गारंटीकृत जीवन और स्वतंत्रता के अधिकार का एक आंतरिक हिस्सा है। न्यायालय ने यह भी माना कि गोपनीयता एक बहुआयामी अवधारणा है जिसमें भौतिक गोपनीयता, सूचनात्मक गोपनीयता और पसंद की गोपनीयता सहित विभिन्न आयाम शामिल हैं। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार के रूप में मान्यता देने का भारत में व्यक्तिगत स्वतंत्रता और डेटा संरक्षण के लिए दूरगामी प्रभाव पड़ा है।