Healthगिलोय जूस के फायदे benefits of giloy in hindi | benefits of...

गिलोय जूस के फायदे benefits of giloy in hindi | benefits of giloy juice

benefits of giloy juice in hindi, benefits of giloy, benefits of giloy tablet 

giloy आज के समय में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए लोग कई तरह के नुक्से आजमाते है जैसे की दवाइयों और महंगी डाइट को लेना 

हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार गिलोय की पत्तियों को पानी में उबालकर पीने से इम्यूनिटी को बढ़ाया जा सकता है. बहुत से लोग गिलोय की पत्तियों का जूस बनाकर भी पीते रहते हैं. 

 गिलोय की पत्त‍ियों में  प्रोटीन, कैल्शि‍यम फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते है जो की अपनी इम्युनिटी को मजबूत करने में सहायक होते है . इसके तनों में स्टार्च की बहुत अधिक मात्रा होती है. गिलोय की पत्त‍ियां पान के पत्तो के समान होती हैं. ये एक सुपर पावर ड्रिंक है, जो इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के साथ-साथ कई खतरनाक बीमारियों से लड़ने में सहायक होता है और साथ में ही बॉडी की सुरक्षा भी करता है. 

उपापचय क्रियाऔ ,जुकाम खांसी,  बुखार समस्या के अलावा भी ये कई बड़ी बीमारियों से आपकी रक्षा कर सकता है. आप उबले पानी या जूस के अलावा काढ़ा, चाय या कॉफी में भी इसका उपयोग कर सकते हैं. गिलोय के पत्तों को एक बेहतरीन आयुर्वेदिक उपचार माना गया हैं.

1. गिलोय एनीमिया रोग से लड़ने में सहायक होता है. इसे शहद और घी के साथ मिलाकर लेने से रक्त की कमी दूर होती है.

2 . हाथ-पैरों में जलन या स्किन एलेर्जी में भी गिलोय बहुत फयदेमंद साबित होता है इसलिए इस बीमारी से परेशान लोग इसे डाइट में शामिल कर सकते हैं. ऐसे लोगों के लिए गिलोय बहुत फायदेमंद है. गिलोय की पत्त‍ियों को पीसकर उसका पेस्ट तैयार कर लें और उसे सुबह-शाम हाथ और पैरो पर लगाएं.

3 . पीलिया रोग के मरीजों के लिए भी गिलोय के पत्ते बहुत फायदेमंद होते है. कुछ लोग इसे चूर्ण के रूप में लेते हैं तो कुछ इसकी पत्त‍ियों को पानी में उबालकर लेते है 

4. इससे एसिडिटी और गैस कीसमस्या नहीं होती है , इसके प्रयोग से पेट से जुड़ी हुई कई बीमारियों से  निजात पाया जा सकता है. और ये पाचन क्रिया को भी दुरुस्त रखता  है

5. गिलोय का इस्तेमाल बुखार और सर्दी दूर करने और कोरोना जैसी गंभीर बीमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है.  गिलोय की पत्त‍ियों का काढ़ा पीना फायदेमंद होता है | 

Latest article

More article