informationसॉफ्टवेयर क्या हैं तथा उसके प्रकार | software in Hindi 2022

सॉफ्टवेयर क्या हैं तथा उसके प्रकार | software in Hindi 2022

Thewillpowermart

Need of Software

Computer Hardware and Software से मिलकर बनता है कम्प्यूटर में हार्डवेयर का प्रयोग करने के लिये कम्प्यूटर में उसके कार्य को परिभाषित करना पड़ता हैं । ताकि वह अपने कार्य को अच्छी तरह से कर सके । इसके कार्य को Software के माध्यम से परिभाषित किया जाता है अर्थात् कम्प्यूटर का प्रयोग करने के लिए Software की आवश्यकता होती है ।
 कम्प्यूटर में कोई सा भी कार्य हो सॉफ्टवेयर द्वारा किया जाता है। 
कम्प्यूटर में hardware and software एक दूसरे के पूरक होते है।

Computer Software क्या है ( what is software in Hindi )

Computer कोई भी कार्य अपने आप नहीं कर सकता उससे कार्य करने के लिये उसे पहले परिभाषित करना पड़ता है । जिसके लिये Computer Language का प्रयोग किया जाता है । कम्प्यूटर में कमॉडस के समूह को प्रोग्राम कहा जाता है । जिसमें कमॉडस को तार्किक क्रम में जमाया जाता है । जैसे सॉफ्टवेयर कहा जाता है ।

Software दो प्रकार के होते है । 

1.System Software
2.Application Software

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर System Software 

यह एक या एक से अधिक प्रोग्राम का समूह होता है । इस software के द्वारा कम्प्यूटर उसके हार्डवेयर को नियंत्रित करता है । यह कम्प्यूटर का प्रमुख प्रोग्राम होता है । इसके बिना कम्प्यूटर को स्टार्ट नहीं किया जा सकता है । यह Software System के लिये कार्य करते है । इसलिये इनको System Software कहा जाता है ।
System software के कार्य
1. यह यूजर एवं हार्डवेयर के बीच interface का निर्माण करते है 
2. सॉफ्टवेयर Application Software को execute करने के लिये प्लेटफार्म उपलब्ध कराते है । 
3. नये hardware का प्रयोग करने के लिये सहायता प्रदान करते है 
4.  यह कम्प्यूटर के मेन्टेन्स का कार्य करते है। 
5. यह कम्प्यूटर को नियंत्रित करते है । 

कुछ महत्वपूर्ण System Software निम्नलिखित है 

A. Operating System 
 प्रत्येक Computer में ऑपरेटिंग की आवश्यकता होती है । बिना इसके कम्प्यूटर को प्रयोग नहीं किया जा सकता है । यह यूजर एवं कम्प्यूटर के बीच इन्टरफेस का निर्माण करते है ।
B. भाषा अनुवादक ( Language Translators ) 
भाषा अनुवादक ऐसा प्रोग्राम है जो भिन्न प्रोग्रामिंग भाषा में लिखे हुए प्रोग्रामों का अनुवाद मशीनी भाषा में करता है । यह अनुवाद करना इसलिए आवश्यक होता है । कि कम्प्यूटर केवल अपनी मशीनी भाषा में लिखे हुए प्रोग्राम का पालन कर सकता है । 

भाषा अनुवादकों को मुख्यतः तीन श्रेणियों में बाँटा जाता 

1 . असेम्बलर

 2 . कम्पाइलर 

3 . इन्टरप्रेटर 

इनका संक्षिप्त विवरण निम्नवत है । 
1.असेम्बलर assembler 
असेंबलर ऐसा प्रोग्राम होता है । जो असेम्बली भाषा में लिखे गये किसी प्रोग्राम को पढ़ता है । और उसका अनुवाद मशीनी भाषा में कर देता है । असेम्बली भाषा के प्रोग्राम को सोर्स ऑब्जेक्ट प्रोग्राम कहा जाता है । इसका मशीनी भाषा में अनुवाद करने के बाद जो प्रोग्राम प्राप्त होता है । उसे ऑब्जेक्ट प्रोग्राम कहा जाता है ।
2. कम्पाइलर compiler 
कंपाइलर ऐसा प्रोग्राम होता है । जो किसी प्रोग्रामर द्वारा उच्च – स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा में लिखे गये सोर्स प्रोग्राम का मशीनी भाषा में अनुवाद करता है । कम्पाइलर सोर्स प्रोग्राम के प्रत्येक कथन या निर्देश का अनुवाद करके उसे एक या अधिक मशीनी भाषा के निर्देशों में बदल देता है । प्रत्येक उच्च स्तरीय भाषा के लिये एक अलग कम्पाइलर की आवश्यकता होती है । 
3. इन्टरप्रेटर interpreter 
 यह भी किसी प्रोग्रामर द्वारा उच्च – स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा में लिखे गये सोर्स प्रोग्राम का अनुवाद मशीनी भाषा में करता है । परन्तु यह एक बार में सोर्स प्रोग्राम के केवल एक कथन को एक या अधिक मशीनी भाषा के कथनों में अनुवाद करता है और उनका पालन करता है । इनका पालन हो जाने के बाद ही वह सोर्स प्रोग्राम के अगले कथन का मशीनी भाषा में अनुवाद करता है । मूलतः कम्पाइलर और इन्टरप्रेटर कुछ नहीं बनाता है । इसलिए इन्टरप्रेटर का उपयोग करते समय हर बार सोर्स प्रोग्राम की आवश्यकता पड़ती है । 
C. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर utility software
यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कुछ ऐसे प्रोग्रामों को कहा जाता है । जो सिस्टम सॉफ्टवेयर नहीं होते है परन्तु जिनकी आवश्यकता हमे बार – बार पड़ती है । यूटिलिटी प्रोग्राम , कई ऐसे कार्य करता है । जो कम्प्यूटर का उपयोग करते समय हमें कराने पड़ते है । उदाहरण के लिए कोई यूटिलिटी प्रोग्राम हमारी फाइलों का बैकअप किसी बाहरी भण्डारण साधन पर लेने का कार्य कर सकता है । यह सिस्टम के अनिवार्य भाग नहीं होते । परन्तु सामान्यतया उसके साथ ही आते है और कम्प्यूटर के निर्माता के द्वारा उपलब्ध कराये जाते है ।

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर Application Software 

 यह वे प्रोग्राम होते है । जिनका प्रयोग यूजर अपने Daily ruten के कार्य करता है । यह प्रोग्राम सिस्टम Software के ऊपर निर्भर रहते है । इनका निर्माण कम्प्यूटर भाषा में किया जाता है आजकल हजारों Application Software उपलब्ध है जिनकी सहायता से अपने कार्य को आसानी से किया जाता है ।
 उदाहरण :  Database Software , Graphics Software , Word Processing Software

Latest article

More article