Educationभारत के संविधान की प्रस्तावना | भारतीय संविधान की प्रस्तावना पर निबन्ध

भारत के संविधान की प्रस्तावना | भारतीय संविधान की प्रस्तावना पर निबन्ध

भारत के संविधान की प्रस्तावना, भारतीय संविधान की प्रस्तावना क्या है?, संविधान के प्रस्तावना का क्या महत्व है?, प्रस्तावना का क्या अर्थ है?, भारतीय संविधान की प्रस्तावना की प्रकृति, भारतीय संविधान की प्रस्तावना की आलोचना

‘ हम भारत के लोग , भारत को एक ( सम्पूर्ण प्रभुत्व – सम्पन्न , समाजवादी , पंथनिरपेक्ष , लोकतन्त्रात्मक गणराज्य ) बनाने के लिए , | तथा उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक , आर्थिक और राजनैतिक न्याय , विचार अभिव्यक्ति , विश्वास , धर्म और उपासना की स्वतंत्रता , प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिए , तथा उन सब | में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखण्डता को सुनिश्चित करने वाली बन्धुता बढ़ाने के लिए दृढ़ संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज तारीख 26 नवम्बर , 1949 ई . ( मिति मार्गशीर्ष शुक्ल सप्तमी , विक्रम सम्वत् 2006 ) को एतद् द्वारा इस संविधान को अंगीकृत , अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं ।

Note – ऑस्ट्रेलिया के संविधान से प्रस्तावना की भाषा को तथा प्रस्तावना को संयुक्त राज्य अमेरिका के संविधान से ग्रहण किया गया है । प्रस्तावना का प्रस्ताव सर्वप्रथम भारत शासन अधिनियम -1919 में लाया गया और इसको स्वीकृत भारत शासन अधिनियम , 1935 में किया गया था , तो वहीं उद्देशिका में भारत शब्द दो बार आया है ।

बेरूबारी यूनियन एवं एक्सचेंज ऑफ एन्क्लेव मामले में ( 1960 में ) उच्चतम न्यायालय ने मत व्यक्त किया था कि प्रस्तावना संविधान का अंग नहीं है । अत : इसमें संशोधन नहीं किया जा सकता ।

केशवानंद भारती बनाम केरल राज्य के वाद ( 1973 ) में उच्चतम न्यायालय ने उक्त निर्णय को उलटते हुए स्वीकारा कि ‘ प्रस्तावना संविधान का ही एक भाग ‘ है अत : अनुच्छेद 368 के तहत् इसमें संशोधन किया जा सकता है । बशर्ते संविधान के मूल ढांचे पर इसका प्रभाव न पड़े ।

Note – अनुच्छेद 137 के तहत् सर्वोच्च न्यायालय अपने पूर्ण निर्णय को बदल सकता है अगर यह कार्य सार्वजनिक हित में हो तो ।

42 वें संविधान संशोधन

संविधान की प्रस्तावना में आज तक केवल एक बार संशोधन किया गया है । मूल संविधान की प्रस्तावना 85 शब्दों से निर्मित थी । 42 वें संविधान संशोधन , 1976 द्वारा प्रस्तावना में संशोधन कर ‘ समाजवादी ‘ ‘ पंथनिरपेक्ष ‘ एवं ‘ अखण्डता ‘ शब्द जोड़े गये है ( प्रारम्भ में भारतीय संविधान को 22 भाग 395 अनुच्छेद एवं 8 अनुसूचियों में बांटा गया ।

Note – 42 वें संविधान संशोधन को भारत का मिनी / लघु संविधान कहा जाता है , तो वही वर्तमान में भारतीय संविधान में अनुसूचियों की संख्या -12 है ।

भारत के संविधान की प्रस्तावना में रूस से न्याय शब्द , फ्रांस से स्वतंत्रता , समानता , भ्रातृत्व , ऑस्ट्रेलिया से प्रस्तावना की भाषा एवं अमेरिका से हम भारत के लोग शब्द लिये गये । प्रस्तावना को न्यायपालिका ने ‘ संविधान की कुंजी ‘ कहा है । प्रस्तावना या उद्देशिका गैर न्यायिक है अर्थात् इसकी व्यवस्थाओं को न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती ।

प्रस्तावना के बारे में प्रमुख व्यक्तियों के विचार

संविधान सभा के सदस्य अल्लादी कृष्णा स्वामी अय्यर ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना के बारे में कहा कि ‘ संविधान की प्रस्तावना हमारे दीर्घकालिक सपनों का विचार है । ‘  तो प्रारूप समिति के सदस्य के.एम. मुंशी ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना के बारे में कहा कि ‘ प्रस्तावना संविधान की राजनीतिक कुंडली है ‘

डॉ . ठाकुर दास भार्गव ने भारत के संविधान की प्रस्तावना के बारे में कहा कि ‘ प्रस्तावना संविधान का सबसे महत्त्वपूर्ण अंग है प्रस्तावना संविधान की आत्मा एवं संविधान की कुंजी है । तो ब्रिटिश विद्वान अर्नेस्ट बार्कर ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना को ‘ संविधान का कुंजी नोट ‘ कहा है ।

एन . ए . पालकीवाला ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना को ‘ संविधान का परिचय – पत्र ‘  कहा है ।

प्रस्तावना ( उद्देशिका ) को पं . जवाहरलाल नेहरू ने संविधान की आत्मा / हृदय कहा है , तो बी.आर. अम्बेडकर ने अनुच्छेद 32 संवैधानिक उपचारों के अधिकार ‘ को संविधान की आत्मा / हृदय / कुंजी बताया । सर्वोच्च न्यायालय ने 1960 में संविधान की प्रस्तावना को ‘ संविधान निर्माताओं की कुंजी ‘ कहा है ।

Note – व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता एवं अखंडता सुनिश्चित करना भारतीय संविधान की प्रस्तावना के अंतर्गत एक 2 संकल्प हैं

Latest article

More article