Educationमानव कंकाल की पूरी जानकारी human skeleton 2021 | मानव कंकाल तंत्रः...

मानव कंकाल की पूरी जानकारी human skeleton 2021 | मानव कंकाल तंत्रः संरचना, कार्य और बीमारियां

मानव कंकाल की पूरी जानकारी, मानव कंकाल के प्रकार

( मानव कंकाल ) मानव – शरीर छोटी – बड़ी कुल 206 अस्थियों से मिलकर निर्मित हुआ है , अस्थियों से बने ढाँचे को कंकाल – तंत्र कहा जाता है । बाल्यावस्था में लगभग 300 अस्थियाँ होती है।

अस्थियाँ आपस में संधियों द्वारा जुड़ी होती है , इनके ऊपर मांसपेशियाँ पाई जाती हैं , जिनकी सहायता से अस्थियों के जोड़ों को हिलाया – डुलाया जा सकता है

अस्थियाँ तथा मांसपेशियाँ शरीर के अंतरिक अंगों की सुरक्षा करती हैं । अस्थि में 50 % जल और 50 % ठोस पदार्थ पाये जाते हैं । ठोस पदार्थ में 33 % अकार्बनिक पदार्थ तथा 67 कार्बनिक पदार्थ पाये जाते हैं ।

अस्थिमज्जा ( Bone Marrow )

यह अस्थि की मध्वर्ती मज्जा – नलिका तथा सुषिर अस्थि के बीच के खाली स्थान में पायी जाती है ,

अस्थिमज्जा दो प्रकार की होती है

( i ) लाल अस्थिमज्जा ( Bone Marow ) – लाल अस्थिमज्जा में लाल रुधिर कणिकाएँ निर्मित होती है ।

( ii ) पीला अस्थिमज्जा ( YellowBone Marrow ) – इसमें वसा तथा रुधिरवाहिकाओं के साथ  साथ जलीय उत्तक भी होते हैं ।

स्नायु ( Ligaments )

ये संयोजी उत्तकों से बनी पट्टी के समान रचनाएँ होती हैं । ये स्नायु – संधि के भीतर अस्थियों को बाँटते हैं तथा अस्थियों के जोड़ों को कसते हैं । इनकी सहायता से अंगों में गति प्रदान होती है ।

संधि ( Articulation ) – यह उस स्थान पर पाई जाती है , जहाँ दो या दो से अधिक अस्थियाँ आपस में मिलकर संधिबद्ध होती हैं ।

कशेरुकदंड ( Vertebral Column )

कशेरुकदंड हमारे शरीर के कंकाल का मुख्य आधार होता है , जो शरीर के मध्य में स्थित होता है । यह सिर को सहारा प्रदान करता है । कशेरुक – दंड को रीढ़ – स्तंभ या मेरुदंड भी कहते हैं । इसमें छोटी – छोटी 33 हड्डियाँ होती हैं , जिन्हें सामूहिक रूप से कशेरुकदंड कहते हैं । इसकी लंबाई 60-70 सेंटीमीटर तक होती है ।

कशेरुकदंड में अस्थियों का योग

अंग  कशेरुक 
  1. गर्दन cervical region
  2. वक्ष thoracic region
  3. कटि lumber region
  4. त्रिक sacral region
  5. पुच्छ caudal region

योग

  • 7
  • 12
  • 5
  • 5
  • 4

33

 

कशेरुकदंड के कार्य Functions ofvertebral Colurryix

मानव – शरीर में कशेरुकदंड के निम्नलिखित कार्य है

( i ) यह सिरे को सीधा रखता है ,

( ii ) यह गर्दन तथा धड़ को आधार प्रदान करता है ,

( iii ) यह मेरुरज्जु या रीढ़ को घेरता है तथा सुरक्षा प्रदान करता है ,

( iv ) यह अगले तथा पिछले पादों के लिए आधार ( Fulcrum ) का कार्य करता है तथा

( v ) यह गर्दन तथा धड़ को लचक प्रदान करता है , जिससे मनुष्य अपनी गर्दन तथा धड़ को किसो भी दशा में मोड़ने में सफल होता है ।

मानव कंकाल के कार्य Functions of Skeleton

मानव – शरीर में कंकाल के निम्नलिखित कार्य है

( i ) कंकाल से शरीर के कोमल अंगों की रक्षा होती है । जैसे – खोपड़ी तथा मेरुदंड मस्तिष्क तथा स्पाइनल कॉर्ड की बाहरी आघातों से रक्षा करते हैं । इसी प्रकार अंसमेखला ( Pectoral girdle ) हृदय तथा फेफड़ों की रक्षा करती है ।

( ii ) यह शरीर को निश्चित आकार एवं आकृति प्रदान करता है ।

( iii ) कंकाल की मज्जागुहा ( Marrow Cavity ) वसा को एकत्रित रखती है ।

( iv ) यह शरीर को सहारा प्रदान करता है , जिससे शरीर मजबूत रहता है ।

( ) जीवित अंतः कंकाल लाल रुधिरकणिकाओं का निर्माण करता है ।

( i ) मांसपेशियों को जोड़ने के लिए कंकाल में उपयुक्त स्थान होते हैं ।

( vii ) कंकाल के बहुत – से भाग लीवर ( Lever ) का कार्य करते हैं , जिनके कारण प्राणियों को प्रचलन में सुगमता होती है ।

( viii ) कंकाल में फॉस्फोरस तथा कैल्सियम संचित रहते हैं , जो समय – समय पर शरीर को उपलब्ध होते रहते हैं ।

( ix ) कान की अस्थियाँ ध्वनिकंपनों को आंतरिक कर्ण तक पहुँचाने का कार्य करती है ।

( x ) मत्स्यों , कछुओं तथ . चिड़ियों में भी बाह्यकंकाल क्रमशः शल्क , कवच तथा पिच्छ के रूप में पाए जाते हैं ।

मानव कंकाल के 5 Important Facts

  • मानव शरीर की सबसे बड़ी हड्डी – फीमर ( जाँघ की हड्डी ) ।
  • शरीर की सबसे छोटी हड्डी – स्टेपस ( कान की हड्डी )
  • मानव शरीर में 33 कशेरुकाएँ पाई जाती हैं ।
  • मानव शरीर में 12 जोड़ी पसलियाँ पाई जाती हैं ।
  • अस्थि में ऑस्टियोब्लास्ट कोशिकाएँ पाई जाती हैं ।
खोपड़ी में कुल अस्थिया 8
चेहरे में कुल अस्थिया 14
धड़ में कुल अस्थिया 58

 

मानव कंकाल तंत्र के महत्वपूर्ण प्रश्न

  •  पेशियों में थकान किस अम्ल के कारण होती है -लैक्टिक अम्ल की कारण
  • लिगामेंट रचना किसे जोड़ती है -अस्थि को अस्थि से
  • रेडियस – अलना तथा ह्यूमेरस में कौन सी संधि संधि स्तनियों के करोटि में किस प्रकार के जोड़ पाये जाते हैं -स्थिर जोड़
  • ह्यूमरस अस्थि कहां पायी जाती है — ऊपरी भुजा में
  • ह्यूमरस तथा अल्ना के बीच की संधि को किस नाम से जाना जाता है -कब्जा संधि
  • कर्णस्थिकाएं किनमें पायी जाती है -स्तनियों में कर्णस्थिकाओं के अन्दर पाये जाने वाले तीन कर्ण कटल के नाम बताइये – मैलुअस , इनकस एवं स्टेप
  • मानव जिह्वा में लगभग कितनी स्वाद कलिकाएं पायी जाती हैं – 1  हजार
  • मानव त्वचा का रंग किस वर्णक के कारण होता है – मिलैनिन
  • शरीर की बाह्यतम परत क्या कहलाती है – स्ट्रैटम कॉर्नियम
  • अल्फा किरैटिन नाम प्रोटीन शरीर कहां उपस्थित होती है . -त्वचा
  • त्वचा एवं श्लेष्मक झिल्ली की कोशिकाओं की क्रियाओं के लिए किस विटामिन की जरूरत होती है विटामिन – A
  • स्तनियों की निचले जबड़े की हड्डियों को क्या कहा जाता है – डेन्टरी
  • ” मायोसिन ‘ एवं ‘ एक्टिन ‘ पेशी में किस प्रकार का कारण है – संकुचन का कारण
  • टेण्डन रचना किसे जोड़ती है -अस्थि तथा पेशी को
  • कैल्सियम तथा फॉस्फेट किसमें अधिक मात्रा में पाया जाता है – हड्डियों में
  • मनुष्य के शरीर में कितनी हड्डियां पायी जाती है -206
  • मनुष्य के चेहरे में अस्थियों की संख्या कितनी होती है -14
  • मनुष्य के मस्तिष्क में कितनी हड्डियां होती हैं -8
  • मनुष्य में कितने दांत जीवन में दो बार आते हैं -20
  • मनुष्य के कितने दांत जीवन में एक बार आते हैं  – 12
  • मनुष्य के शरीर में कितनी पसलियां होती हैं -24
  • कलाई की संधि को क्या कहा जाता है — कोणिक संधि
  • मांसाहारी जन्तुओं में कैनाइन दांतों का उपयोग किस कार्य के लिए होता है -मांस पकड़ने एवं फाड़ने के लिए
  • क्रिप्टोकरेंसी क्या है पूरी जानकारी
  • हरित क्रांति
  • विज्ञान की प्रमुख शाखाएँ एवं उनका अध्ययन

Latest article

More article