Educationदीप्तिकालिता क्या है photoperiodism in Hindi

दीप्तिकालिता क्या है photoperiodism in Hindi

दीप्तिकालिता किसे कहते हैं, दीप्तिकालिता का महत्व [photoperiodism in Hindi]

दीप्तिकालिता– पुष्पीय पादपों में निश्चित समय तक कायिक वृद्धि होने के बाद पादप जनन अवस्था में प्रवेश करते हैं व उनमें पुष्पन क्रिया प्रारम्भ हो जाती है । पादप के कायिक अवस्था से पुष्पन अवस्था में प्रवेश को अनेक कारकों द्वारा नियंत्रित किया जाता है । इसमें से एक प्रमुख कारक प्रकाश की अवधि अर्थात् दीप्तिकालिता है । दीप्तिकालिता का अध्ययन गार्नर तथा एलार्ड ( Garner and Allard ) ने किया था । वे इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि पुष्पन को प्रभावित करने वाला क्रान्तिक कारक ( critical factor ) प्रकाश काल की अवधि है । दिन की वह लम्बाई जो पौधों में पुष्पन के लिये अनुकूल हो तथा दिन की आपेक्षित लम्बाई अथवा आपेक्षिक दीप्तिकाल के प्रति पौधे की अनुक्रिया को दीप्तिकाल कहते हैं । अन्य परिभाषानुसार प्रकाश तथा अन्धकार अवधियों के अन्तरालों के प्रति पौधों की अनुक्रिया को दीप्तिकालिता कहते हैं ।

दीप्तिकालिता अनुक्रियाओं के आधार पर पौधों को निम्न वर्गों में विभक्त किया गया है

( i ) अल्प दीप्तिकाली पादप या लघु दिवस पादप ( Short day plants = SDP )

ऐसे पादप जो निश्चित क्रान्तिक दीप्तिकाल ( critical photoperiod ) से कम अवधि में दीप्तिकाल उपलब्ध होने पर पुष्पन करे , लघुदिवस पादप कहलाते हैं , उदा . गन्ना , डहेलिया आदि

( ii ) दीर्घ दीप्तिकाली पादप या दीर्घ दिवस पादप ( Long day plants = LDP )

वे पादप जिनमें पुष्पन के लिये क्रान्तिक दीप्तिकाल से दीर्घ अवधि का दीप्तिकाल आवश्यक हो , दीर्घ दिवस पादप कहलाते हैं । उदा . पालक , मूली , चुकंदर आदि ।

( iii ) तटस्थ प्रदीप्तकाली या दिवस उदासीन या निरपेक्ष पादप ( Day neutral plants )

वे पौधे जो लगभग सभी सम्भव दीप्तिकालों में पुष्पीकरण कर सकते हैं , दिवस उदासीन पौधे कहलाते हैं । उदा . टमाटर , ककड़ी , कपास आदि । दीप्तिकाल का अनुभव पत्तियाँ करती हैं । परिपक्व पत्तियाँ दीप्तिकालिता के लिये , युवा और वृद्ध पत्तियों की तुलना में , अधिक संवेदनशील होती हैं । दीप्तिकालिता में पत्तियों में पाया जाने वाला फाइटोक्रोम ( Phytochrome ) वर्णक , प्रकाश का अवशोषण करता है और पुष्प निर्माण करने वाले हॉर्मोन फ्लोरीजन ( Florigen ) का संश्लेषण करता है ।

Latest article

More article