Uncategorizedकोरोनावायरस की तीसरी लहर | क्या है कोरोना की तीसरी लहर |...

कोरोनावायरस की तीसरी लहर | क्या है कोरोना की तीसरी लहर | क्या होगा कोरोनावायरस की तीसरी लहर में

कोरोनावायरस की तीसरी लहर कैसी होगी

कोरोनावायरस केंद्र सरकार की प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के. विजय राघवन ने दावा किया है की कोरोना की तीसरी लहर आएगी जिसमें वायरस का सरकुलेशन तेजी से उच्च स्तर पर होगा हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि यह कितनी खतरनाक होगी और कब आएगी उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि हमें तीसरी लहर के लिए तैयार रहना चाहिए और तीसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा खतरनाक होगी।

कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी

कोरोनावायरस की तीसरी लहर

अभी कोरोना की दूसरी लहर चल रही है यह तय है कि दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर आएगी लेकिन कब तक आएगी यह कंफर्म नहीं है । मई के अंत में कोरोना की तीसरे वायरस के पीक के आने की संभावना है यह कोरोनो का नया डेडली वायरस v शेप में हैं।

कोराना वायरस की पहली लहर में वायरस सामान्य स्तर पर था कोरोना वायरस की दूसरी लहर में वायरस और ज्यादा घातक है जो कि पहली लहर में हुए संक्रमण की वजह से इम्यूनिटी पर पड़े असर के कारण है।

कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन

दूसरी लहर में कोरोना के नयो स्ट्रेन की आंध्र प्रदेश के कारनूल मैं पहचान हुई वैज्ञानिकों ने कई केंद्रों से इसन वायरस का सैंपल इकट्ठा किया है उनमें से 50 पर्सेंट लोगों में कोरोना का N44OK वैरीअंट पाया गया।

कितना खतरनाक है कोरोना का नया AP स्ट्रेन

कोरोना वायरस के इस AP स्ट्रेन का N44OK नाम दिया गया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि भारत में मौजूदा स्ट्रेन के मुकाबले यह 15 गुना ज्यादा खतरनाक है यह B1. 617 और B1.618 के बाद आया नया वेरिएंट है दक्षिण भारत में अब तक कोरोना के 5 वेरिएंट मिल चुके हैं। यह है नया वेरिएंट अच्छी इम्यूनिटी वाले व्यक्तियों को भी चपेट में ले रहा है।

क्यों खतरनाक है AP स्ट्रेन

नऐ वैरियंट से संक्रमित व्यक्ति तीन-चार दिन में हाइपोक्सिमा या डिस्पनिया के शिकार हो जाते हैं इस स्थिति में सांस मरीज के फेफड़ों तक पहुंचना बंद हो जाती है सही समय पर इलाज और ऑक्सीजन सपोर्ट नहीं मिलने पर मरीज की मृत्यु हो जाती है।

कोरोना वायरस की तीसरी लहर के परिणाम | कोरोना की तीसरी लहर के लक्षण

कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा खतरनाक है एक्सपर्ट का कहना है कि कुरान की तीसरी लाख 6 से 12 वर्ष के बच्चों के लिए ज्यादा खत्म होगी । तीसरी लहर का वायरस lungs को जल्दी ही अफेक्ट करेगा।

कोरोना की तीसरी लहर से कैसे बचे

कोरोना की वर्तमान गाइडलाइन का पालन करें। व घर पर रहे स्वस्थ रहे फेस मास्क ओर सैनिटाइजर का प्रयोग प्रतिदिन करें बच्चों को घर से बाहर बिल्कुल भी नहीं निकलने दें ।बड़ों को भी जल्दी से वैक्सीनेशन करवाना चाहिए ताकि बच्चों में वायरस फैलने नहीं। बच्चों को भीड़, मैरिज ,पार्टी आदि से दूर रखें।

कोरोना से बचने के लिए एक्सरसाइज

कोरोना से बचने के लिए या इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत करने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज करना जरूरी है जिससे फेफड़ों को मजबूती प्रदान होगी तथा ऑक्सीजन और ब्लड सरकुलेशन सही और अच्छे से होता है। ब्रीदिंग एक्सरसाइ से फेफड़े अच्छे से काम करते हैं। तथा फेफड़ों से संबंधित कोई गंभीर बीमारी भी नहीं होती।

ब्रीदिंग एक्सरसाइज कैसे करें

ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने के लिए सबसे पहले एक दम शांत अवस्था में सीधे बैठ जाइए और अपने हाथो और शरीर को ढीला छोड़ दें फिर अपने मुंह से सांस अंदर भरिए और लगातार सांस अंदर लेते रहना चाहिए जब तक हमें लगे नहीं की अब हम सांस नहीं ले सकते उस अवस्था में भी 5 % ओर सांस अंदर खींचना चाहिए।

अब कुछ सेकंड के लिए साँस को अंदर ही रोकना चाहिए उसके बाद सांस को धीरे-धीरे छोड़ना चाहिए ऐसा करने से फेफड़ों का संक्रमण नहीं होता और ऑक्सीजन लेवल भी डाउन नहीं होता तथा फेफड़े अच्छे से काम करते रहते हैं।

क्या है 2dg drug

2-DG anti covid drug है। v2 DG एक तरह का पाउडर है जिसे डीआरडीओ ने 17 may 2021 को लांच किया है इस पाउडर को घोलकर पीना होता है यह शरीर में कोरोना के वायरस की ग्रोथ को रोक देगा तथा शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाएगा तथा कोरोना के संक्रमण को रोक देगा। जिसके कारण कोरोना मरीज जल्दी ही रिकवर हो पाएंगे

Latest article

More article