Scienceएंटीशिप मिसाइल - science and technology

एंटीशिप मिसाइल – science and technology

Join Telegram

एंटीशिप मिसाइल

डीआरडीओ और भारतीय नौसेना ने 18 मई 2022 को उड़ीसा के एकीकृत परीक्षण रेंज (ITR) चांदीपुर से नौसेना हेलीकॉप्टर के जरिए स्वदेशी रूप से निर्मित नौसैनिक एंटी शिप मिसाइल का सफलतापूर्वक पहला उड़ान परीक्षण किया।

एंटीशिप मिसाइल की विशेषता

  • यह भारतीय नौसेना के लिए पहली स्वदेशी रूप से विकसित हवा से लांच की जाने वाली एंटीशिप प्रणाली है।
  • इसमें कहीं नहीं तकनीकों को शामिल किया गया है जिसमें हेलीकॉप्टर के लिए स्वदेशी रूप से विकसित लांचर भी शामिल है।
  • मिसाइल मार्गदर्शन प्रणाली में अत्याधुनिक नौ संचालन प्रणाली और एकीकृत वैमानिकी शामिल है।

ह्यूमन रेटेड सॉलि़ड रॉकेट बूस्टर

ह्यूमन रेटेड सॉलि़ड रॉकेट बूस्टर को भारत के पहले मानव मिशन गगनयान के लिए तैयार किया गया है इसे इसरो ने 13 मई 2022 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लांच किया गया है। बूस्टर इंजन जीयो सिक्रोन्स सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल Mk-III (GSLV Mk III) रॉकेट का हिस्सा है। यह भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में ले जाएगा।

GSLV Mk III रॉकेट के दो HS200 बूस्टर होंगे, HS200 की लंबाई 20 मीटर और व्यास 3.2 मीटर है। HS200 मिस्टर का डिजाइन और विकास कार्य विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में किया गया है और इसका प्रणोदक का निर्माण श्रीहरिकोटा में किया गया।

मिशन गगनयान

गगनयान अंतरिक्ष में भेजे जाने वाला भारत का पहला मानव युक्त मिशन है गगनयान मिशन की घोषणा 15 अगस्त 2018 को माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने की थी।

इसरो का शुक्र मिशन (शुक्रयान-1)

इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने 4 मई 2022 को दिसंबर 2024 में शुक्र मिशन को लांच करने की घोषणा की है। इसका उद्देश्य शुक्र ग्रह के वातावरण में मौजूद सल्फ्यूरिक अम्ल के बादलों का रहस्य जानना एवं शुक्र ग्रह की सतहो का अध्ययन करना है।

शुक्रयान को 2024 में लांच करने का कारण

शुक्रयान को दिसंबर 2024 को लांच करने का मुख्य कारण है कि इस समय शुक्र ग्रह और पृथ्वी के मध्य की दूरी काफी कम होगी इस कारण से शुक्रयान को कम दूरी तय करनी पड़ेगी।

शुक्रयान एक्सपेरिमेंट प्लान

शुक्रयान एक्सपेरिमेंट प्लान निम्न है-

सतह की जांच करना

सक्रिय ज्वालामुखी का पता लगाना

लावा के बहाव की जानकारी प्राप्त करना

शुक्र के वायुमंडल की जांच करना

सतह के निचले हिस्से की परतों की जांच करना

Join Telegram

Latest article

spot_img

More article